सीधी कलेक्टर अभिषेक सिंह को हटाने की मांग, चुनाव आयोग में शिकायत

भोपाल | चुनाव से ठीक पहले अधिकारियों के राजनीतिक पार्टियों ने मोर्चा खोल दिया है| कई जिलों के एसपी कलेक्टरों के खिलाफ लगातार शिकायतें चुनाव आयोग के पास पहुँच रही है| भाजपा ने छिंदवाड़ा कलेक्टर की शिकायत के बाद सीधी कलेक्टर अभिषेक सिंह पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए उन्हें हटाने की मांग की। पार्टी ने कहा कि वे कांग्रेस प्रत्याशी को लाभ पहुंचाना चाहते हैं। इससे पहले बीजेपी ने छिंदवाड़ा कलेक्टर श्रीनिवास शर्मा को हटाने की मांग की थी। शिकायत में कहा गया था कि कलेक्टर छिन्दवाड़ा निवास शर्मा कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ को किसी संवैधानिक पद पर ना रहते हुए शासकीय कार्यक्रमों में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित कर रहे हैं। लोकसभा के प्रत्याशी के रूप में जनता से उनका परिचय करा रहे हैं। 

भाजपा ने सोमवार को चुनाव आयोग से सीधी कलेक्टर अभिषेक सिंह पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए उन्हें हटाने की मांग की। बीजेपी का आरोप है कि कलेक्टर ने पक्षपातपूर्ण कार्रवाई करते हुए सिंहावल,सीधी व धौहनी विधानसभा के सेक्टर अधिकारियों को 23 मार्च को बदल दिया। चुरहट-76 के सेक्टर अधिकारियों को नहीं बदला जाना पक्षपातपूर्ण है जो कि निष्पक्षता,पारदर्शिता का उल्लंघन है। आयोग से भाजपा ने सुवासरा से कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग पर एक मामले का हवाला देते हुए धारा 144 के उल्लंघन का आरोप लगाया। उन्होंने कांग्रेस पर अधिकारियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया। भाजपा प्रतिनिधिमंडल में निर्वाचन समिति संयोजक शांतिलाल लोढ़ा, एसएस उप्पल आदि शामिल थे। 


नकुलनाथ को मुख्य अतिथि बना रहे छिंदवाड़ा कलेक्टर 

भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग को शिकायत सौंपकर छिंदवाड़ा कलेक्टर श्रीनिवास शर्मा को हटाने की मांग की है। शिकायत में कहा गया है कि कलेक्टर छिन्दवाड़ा निवास शर्मा कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ को किसी संवैधानिक पद पर ना रहते हुए शासकीय कार्यक्रमों में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित कर रहे हैं। लोकसभा के प्रत्याशी के रूप में जनता से उनका परिचय करा रहे हैं।  नकुलनाथ को फालोगार्ड प्रदान किए जा रहे हैं और उनका हेलिकाप्टर उतारने के लिए हेलीपेड बनवाए हैं। शिकायत में कहा गया है कि ी निवास शर्मा के कलेक्टर के पद पर रहते लोकसभा और विधानसभा उप-चुनाव निष्पक्ष होना संदेहास्पद है। पार्टी ने कहा है कि कमलनाथ और उनके परिवार से घनिष्ठता को देखते हुए कलेक्टर को तत्काल निर्वाचन कार्य से पृथक किया जाना चाहिए। 

"To get the latest news update download the app"