आरिफ मसूद और मो सलीम की मुलाकात से बने नए राजनीतिक समीकरण

भोपाल। मध्य विधान सभा सीट से कांगे्रस के नवनिर्वाचित विधायक आरिफ मसूद और मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव मो. सलीम बुधवार को जब विधान सभा में एक-दूसरे से गर्म जोशी से मिले तो यूं लगा जैसे दोनों के रिश्तों पर वर्षों से जमी बर्फ कुछ सैकेण्ड में ही पिघल गई हो। इस छोटी से मुलाकात में जहां आरिफ ने सलीम को अपना बड़ा बताते हुए उन्हीं के कारण राजनीति में आना बताया तो वहीं सलीम ने भी तपाक से उन्हें मुबारकबाद देते हुए कहा कि मुझे एेसा लगता है कि मेरी जिंदगी का जो सपना था वो आरिफ मसूद के रुप में पूरा हो गया है। सलीम ने कहा कि मेरी तो इनके लिए खूब दुआएं हैं, तरक्क्की करें और आगे बढ़ें। मेरा पूरा सर्पोट हमेशा इनके साथ था और आगे भी रहेगा। वहीं आरिफ मसूद ने कहा कि सलीम भाई बड़े हैं हम बराबर मिलते हैं। गौरतलब है कि मो. सलीम और आरिफ मसूद शाहजहांनाबाद में एक ही मोहल्ला में आस-पड़ौस में रहते हुए युवा अवस्था में बहुत अच्छे दोस्त हुआ करते थे। एक समय था जब शहर की युवा राजनीति में इन दोनों का बोल बाला था। दोनों ही उस समय के कददावर कांगे्रस नेता रहे पूर्व मंत्री स्व. रसूल अहमद सिददीकी के साथ राजनीति का ककहरा सीखे हैं। समय के साथ ही जहां दोनों की राहे जुदा हो गईं वहीं दोनों ने ही राजनीति में अपना एक अलग मुकाम बना लिया है। इस समय जहां आरिफ मसूद विधायक हो गए हैं तो वहीं सलीम भी सीएम और प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष कमलनाथ के सबसे करीबी और भरोसेमंद प्रदेश कांगे्रस कमेटी के महासचिव हैं। पुराने दौर में दोनों के कॉमन फ्रेंड रहे अल्पसंखयक कांगे्रस नेता खालिद हफीज एडवोकेट ने वर्षों बाद दोनों को एक साथ देखकर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि अगर यह दोनों नेता इसी तरह एक साथ रहें तो न सिर्फ शहर बल्कि राज्य की राजनीति में भी बड़ा धमाका कर सकते हैं।


"To get the latest news update download the app"