'हर्ष फायर' पर 150 लोगों पर मामला दर्ज, संगठन की दो टूक- SP पर भी हो FIR

ग्वालियर। शहर में दशहरे के दिन हुए हर्ष फायर के खिलाफ 150 लोगों पर की गई FIR का मुद्दा गरमा गया है । विश्व हिन्दू परिषद् का कहना है कि वैध हथियारों से फायर करना अपराध नहीं हैं और यदि ये अपराध की श्रेणी में आता है तो एसपी के खिलाफ भी FIR की जाए क्योंकि उन्होंने भी दशहरे के दिन हर्ष फायर किया था। 

दरअसल दशहरे के दिन बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद् ने सरस्वती शिशु मंदिर नदी गेट पर शस्त्र पूजन का कार्यक्रम रखा था। पूजन के बाद एक चल समारोह आयोजित किया गया। जिसमें करीब 150 से ज्यादा कार्यकर्ता शामिल थे। जिनके हाथों में तलवार और बंदूकें थीं । इसी बीच एक कार्यकर्ता ने अपनी बंदूक से हर्ष फायर कर दिया। किसी ने इसका वीडियो बना लिया जिसके वायरल होते ही पुलिस ने FIR दर्ज कर ली लेकिन खास बात ये रही कि FIR पूरे 150 लोगों के खिलाफ की गई। 

150 लोगों के खिलाफ पुलिस द्वारा की गई FIR पर आपत्ति उठाते हुए विश्व हिन्दू परिषद् के प्रान्त मंत्री पप्पू वर्मा ने इसे गलत कार्रवाई कहा। पत्रकारों से बात करते हुए पप्पू वर्मा ने कहा कि चल समारोह में जितने भी शस्त्र थे वे सभी लायसेंसी हथियार थे और लायसेंसी हथियार से फायर करना अपराध की श्रेणी में नहीं आता। हमने कोई अपराध नहीं किया। और फिर एक कार्यकर्ता ने अति उत्साह में लायसेंसी हथियार से फायर किया लेकिन झांसी रोड थाना पुलिस ने 150 लोगो पर FIR कर  दी । उन्होंने कहा कि यदि लायसेंसी हथियार से फायर करना अपराध है तो पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन पर भी FIR की जाए क्योंकि उन्होंने भी दशहरे के दिन पुलिस लाइन में शस्त्र पूजन कर हर्ष फायर किया था । पप्पू वर्मा ने पुलिस के आला अधिकारियों से FIR वापस लेने की मांग की है । उन्होंने सात दिन की चेतावनी देते हुए कहा कि यदि ऐसा नहीं होता है तो फिर बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद् के कार्यकर्ता उग्र आन्दोलन के लिए बाध्य होंगे।



"To get the latest news update download the app"