10 सालों से MP के इस आरक्षक को CM से पहले NCC से DGP तक करते आ रहे सेल्यूट

भोपाल।

जुलाई का अंत आते और अगस्त की शुरुआत से पहले ही देश की आजादी के लिए वीरों की कुर्बानी याद आने लगती है। माहौल में देशभक्ति की खुशबू महकने लगती है।इसी कड़ी में देश भर में 73वां स्वतंत्रता दिवस जोर-शोर से मनाने की तैयारियां जारी हैं।  वही एमपी की राजधानी में भी नजारा कुछ अलग-अलग नजर आ रहा है। 15 अगस्त की तैयारियों के बीच राजधानी भोपाल के लाल परेड मैदान में पुलिस जवानों और अधिकारियों की रिहर्सल शुरू हो चुकी है। इसी बीच हम आपको एक ऐसे पुलिसकर्मी का किस्सा सुनाने जा रहे है,  जिसे पिछले 10 सालों से NCC कैडेट्स से लेकर से लेकर  DGP सलाम सैल्यूट कर रहे है। इस पुलिसकर्मी  का नाम  रामचंद्र कुशवाह है, जो भोपाल पुलिस में आरक्षक हैं। इसके पीछे क्या वजह है,आईए हम आपको बताते है...

दरअसल, 15 अगस्त से दो दिन पहले 13 अगस्त को भोपाल में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह की फुल ड्रेस रिहर्सल होती है। इसमें एक पुलिसकर्मी को डमी मुख्यमंत्री बनाया जाता है, वो बतौर मुख्यमंत्री परेड की सलामी लेते हैं। अब क्योंकि वो डमी सीएम होते हैं इसलिए परेड में शामिल NCC कैडेट्स से लेकर प्रदेश के पुलिस महा निदेशक तक उन्हें सलामी ठोकते है। उधर रामचंद्र भी पूरे अंदाज के साथ DGP के सैल्यूट का जवाब देता है।रिहर्सल के दौरान वो डायस पर जाकर बतौर मुख्यमंत्री प्रदेश की जनता को संबोधित भी करते हैं।

रामचंद्र कुशवाह आम दिनों में वो एक आम आरक्षक की तरह काम करते हैं, लेकिन स्वतंत्रता दिवस पर वो एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है, जैसे प्रदेश का मुखिया हालांकि उनका ये रुतबा सिर्फ 5 घंटे के लिए रहता है। उसके बाद वो फिर से आम आरक्षक बन जाते हैं।खास बात ये है कि ये सेल्यूट करने का सिलसिला पिछले दस सालों से लगातार जारी है। कुछ घंटों के लिए ही सही पर असली मुख्यमंत्री का ट्रीटमेंट मिलना रामचन्द्र के लिए गर्व से कम नहीं है।


"To get the latest news update download the app"