शिक्षकों को मिली बड़ी राहत, अब लोकसभा चुनाव में नहीं लगेगी ड्यूटी

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद अब लोकसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। चुनावी काम को समय सीमा के अंदर अंजाम देने के लिए शिक्षकों की ड्यूटी भी लगाई जाती है। फिलहाल लोकसभा चुनाव के लिए भी शिक्षकों की मदद ली जा रही है। लेकिन अब शिक्षकों के लिए अच्छी खबर आई है। अब निर्वाचन कार्य में शिक्षकों का उपयोग नहीं किया जाएगा| मध्य प्रदेश राज्य शिक्षा केंद्र ने शिक्षकों को निर्वाचन कार्य से मुक्त रखने का आदेश जारी किया है।

अकले राजधानी भोपाल में चुनाव कार्यों को पूरा करने के लिए 2 हजार शिक्षकों की मदद ली जा रही है। उनके चुनाव कार्य में लगे होने से शैक्षणिक कार्य प्रभावित हो रहा है। स्कूल में एग्जाम का समय है ऐसा में छात्रों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। स्कूलों में शिक्षकों की कमी हो गई है। चुनाव ड्यूटी का असर बच्चों के नतीजों पर न पड़े इसलिए शिक्षकों को परीक्षओं से पहले चुनावी कार्यों से मुक्त किया जा रहा है। शिक्षक संघ का कहना है कि आदेश तो कई बार जारी हुए हैं, लेकिन कभी भी जमीनी स्तर पर इन आदेशों का पालन नहीं हुआ है।

शिक्षकों के चुनावी कार्य में लगे होने से अब तक छात्रों का सिलेबस भी पिछड़ा हुआ था. जिला शिक्षा अधिकारियों का कहना है कि शिक्षकों को तत्काल चुनावी कार्य से मुक्त किया जाएगा, लेकिन चुनावी कार्य में कर्मचारियों की कमी होने पर शिक्षकों को ही ड्यूटी पर लगाया जाएगा और स्कूलों के आसपास के केंद्रों पर उनकी ड्यूटी लगाई जाएगी, जिससे वे बच्चों की पढ़ाई पर भी ध्यान दे सकें।

"To get the latest news update download the app"