विधानसभा का घेराव करने पहुंचे नरसिंहपुर के किसान, स्टेशन पर पुलिस ने रोका, जमकर नारेबाजी

भोपाल/नरसिंहपुर

पिछले 10 दिनों से आंदोलन कर रहे गन्ना किसानों ने उचित दाम ना मिलते के चलते अब सरकार के खिलाफ भोपाल में मोर्चा खोल दिया है।वे अमरकंटक एक्सप्रेस में सवार होकर भोपाल के हबीबगंज स्टेशन पहुंचे है और अब विधानसभा की तरफ रुख करने की तैयारी में है, लेकिन इसके पहले पुलिस ने उन्हें वही रोक दिया है, किसानो को स्टेशन से बाहर निकलने नही दिया जा रहा है। स्टेशन के बाहर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। ऐसे में किसानों ने स्टेशन पर ही डेरा डाल दिया है और वो लगातार नारेबाजी कर रहे हैं।

दरअसल, सोमवार को किसान संघर्ष समिति के बैनर तले किसानों ने नरसिंहपुर के नृसिंह भवन पहुंचकर धरना प्रदर्शन किया था। इतना ही नहीं किसानों ने कलेक्ट्रेट के नोटिस बोर्ड पर खून से इबारत लिखते हुए तीन सूत्रीय मांगें उठाईं थीं कि गन्ने के दाम 350 रुपए प्रति क्विंटल किए जाएं। इसके अलावा 12 घंटे में ट्रैक्टर-ट्राली खाली की जाए और गन्‍ने का भुगतान 14 दिन में किया जाए। आंदोलन के दौरान किसान मुख्य गेट पर करीब डेढ़- दो घंटे तक डटे रहे थे।

इसके बाद किसानों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।इस पर कलेक्टर ने उन्हें आश्वसन दिया था कि जल्द समस्या का समाधान निकाला जाएगा। लेकिन जब बुधवार तक कोई समाधान नही किया गया तो किसानों ने भोपाल का रुख किया और विधानसभा का घेराव कर अपनी बात सरकार के सामने रखनी की रणनीति बनाई।इसी के चलते आज सैकड़ों किसान अमरकंटर एक्सप्रेस से भोपाल पहुंचे है, लेकिन पुलिस द्वारा उन्हें हबीबगंज स्टेशन से बाहर नही निकलने दिया जा रहा है। ऐसे में किसानों ने स्टेशन पर ही डेरा डाल दिया है और वो लगातार नारेबाजी कर रहे हैं। बता दें कि किसानों ने स्टेशन से विधानसभा तक पैदल मार्च की तैयारी की है। 

मांगे पूरा ना होने पर दी चेतावनी

किसानों का कहना है कि नरसिंहपुर जिले की सभी शक्कर मिले वर्तमान विधायकों एव कांग्रेस पार्टी के नेताओं की होने के कारण गन्ना किसानों को सिर्फ आप से ही राहत की उम्मीद है। गन्ना किसानों की वाजिब मांगों की शीघ्र पूर्ति ना होने की स्थित मे हम किसानों के पास आमरण अनशन या आत्मकथा के आलावा दूसरा कोई रास्ता नही बचता है । 


गन्ना किसानों की मांग

1. केन्द्र सरकार द्वारा रिकवरी के आधार पर तय FRP जो वर्तमान मे ₹330/- प्रति क्विंटल बनती है की दर से सभी किसानों को भुगतान किया जाये।

2. उत्तर प्रदेश की तर्ज पर मध्यप्रदेश मे भी किसान हितैषी नयी गन्ना नीति का निर्माण किया जाये।

3. वर्तमान नियमों के अनुसार 15 दिनों मे पूर्ण भुगतान किया जाये। विलम्ब से भुगतान की स्थित मे किसानों को ब्याज दिया जाये।

4. पिछले साल का बकाया भुगतान ब्याज सहित तत्काल कराया जाये ।

5. कांग्रेस के वचन पत्र अनुसार आपके द्वारा करेली चुनाव सभा मे घोषित ₹50/- प्रति क्विंटल का बोनस सभी गन्ना उत्पादक किसानों (जिनमें गुड़ भट्ठी किसान भी शामिल रहे) को तत्काल दिया जाये।

गौरतलब है कि नरसिंहपुर जिला प्रदेश का सबसे बड़ा गन्ना उत्पादक जिला है जहां आठ शक्कर कारखाने कार्यरत है। लेकिन जिले के गन्ना किसानों को सरकार के नियमानुसार समय पर उचित दाम नही मिल रहे है जिसके कारण किसानों मे आक्रोश व्याप्त है। पिछले वर्ष जब शक्कर के मूल्य ₹2700/- प्रति क्विंटल थे तक किसानों को गन्ने पर ₹300/- प्रति क्विंटल का भाव मिल रहा था लेकिन इस वर्ष जब शक्कर के भाव ₹3200/- से अधिक है तब किसानों को गन्ने पर मात्र ₹262/- का मूल्य वो भी 6 महिने बाद दिया जा रहा है। 




"To get the latest news update download tha app"