जीत के लिए तन्खा की धर्मपत्नी ने संभाला मोर्चा, इस वजह से कार्यकर्ताओं को लगा दी फटकार

जबलपुर| लोकसभा चुनाव में सिर्फ प्रत्याशी ही नहीं बल्कि उनकी धर्मपत्नी भी अपने पति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चुनाव प्रचार में साथ दे रही हैं। प्रत्याशी जहां गांव गांव कस्बे कस्बे घूम घूम कर चुनाव प्रचार कर रहे हैं तो वहीं उनकी पत्नियां भी महिलाओं से अपने पति के लिए वोट मांग रही हैं। कांग्रेस प्रत्याशी विवेक तंखा की पत्नी आरती तंखा ने भी अपने पति के साथ चुनाव प्रचार में मोर्चा संभाल लिया है। 

तंखा की पत्नी आरती तनखा भी लगातार चुनाव प्रचार के लिए रणनीति बना रही हैं। आरती विवेक तंखा ने आज जिला महिला मोर्चा पदाधिकारियों की बैठक लेकर चुनाव संबंधित रणनीति सभी कार्यकर्ताओं से सांझा की। हालांकि कुछ देर के लिए आरती तन्खा कार्यकर्ताओं पर जरूर नाराज हो गई। 

दरअसल जब लोकसभा चुनाव को लेकर कई महत्वपूर्ण मामलों में चर्चा चल रही थी उसी दौरान कुछ महिलाएं लगातार आपस में बात कर बैठक में खलल पैदा करने लगी थी जिससे आरती तन्खा खासा नाराज हो गई और उन्होंने महिला कार्यकर्ताओं को दो टूक सुनाते हुए कहा कि यह बातचीत करने की जगह नहीं है और अगर किसी को बात करना है तो वह बाहर जा सकता है। इधर अपनी चुनाव संबंधित रणनीति को लेकर आरती विवेक तंखा का कहना है कि बीते 15 सालों से जबलपुर संसदीय क्षेत्र विकास से कोसों पीछे है। जबलपुर की जनता से उन्होंने आह्वान किया की एक मौका हमें दीजिए। क्योंकि बीते 15 साल में क्या हुआ यह पता है और हम क्या कर सकते हैं यह भी पता है। बीते 4 सालों में राजनीति में ना होते हुए भी जो काम हमने किया है वह सबको पता है। जिले में रोजगार नहीं है कोई बड़ी इंडस्ट्रीज नहीं है स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से ठप है। सरकार की तरफ से कोई भी बड़ा प्रोजेक्ट जबलपुर में नहीं लगा है हमने जनता से एक मौका मांगा है और विश्वास है कि जनता हमारी बात जरूर सुनेगी।

"To get the latest news update download the app"