Breaking News
व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित |

चुनाव आयोग से कमलनाथ ने की दोबारा जांच की मांग

भोपाल

मध्यप्रदेश में फर्जी मतदाता सूची का मामला शांत होने का नाम नही ले रहा है। चुनाव आयोग द्वारा शिकायत खारिज किए जाने पर कांग्रेस ने फिर से जांच की मांग की है। इसी कडी में कमलनाथ ने फर्जी मतदाता सूची मामले को लेकर एक बार फिर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि आज की स्थिति पर चुनाव आयोग फिर से रिपोर्ट पेश करे।उन्होंने कहा कि 1 जनवरी 2018 की तक गड़बड़ी हमने आयोग को सौपी थी। चुनाव आयोग की जांच से हम संतुष्ट नहीं । हम फिर से प्रमाणों के साथ उनको शिकायत देंगे।वही  नाथ ने चुनाव आयोग से इस मामले में दोबारा जांच की मांग की है।

बता दे कि रविवार को पॉलिटिकल डॉट इन के सीईओ विकास जैन ने भी मध्यप्रदेश में लाखों फर्जी मतदाता होने की बात कही है और चुनाव आयोग की जांच पर सवाल उठाए थे।

चारों कार्यकारी अध्यक्षों को सौंपी जिम्मेदारी

आगामी चुनाव को लेकर कांग्रेस पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गई है। जिसके चलते प्रदेश कांग्रेस ने चारों कार्यकारी अध्यक्षों के कामों का बंटवारा कर दिया गया है। राउ विधायक जीतू पटवारी को आंदोलनों और सम्मेलनों, रामनिवास रावत को पिछड़ा वर्ग, सुरेंद्र चौधरी को SC वर्ग और बाला बच्चन को ST की जिम्मेदारी सौंपी गई है।इसी के आधार पर ये काम देखेंगें।

गौर से मुलाकात पर बोले कमलनाथ

दरअसल, रविवार को माली-सैनी समाज का सम्मेलन भोपाल में हुआ था। जिसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ, भाजपा विधायक और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर शामिल हुए थे। वहां कमलनाथ ने गौर साहब को कांग्रेस पार्टी में आने का ऑफर दिया था। इसके साथ ही दोनों के बीच कानाफूसी और हास-परिहास के कई दृश्य भी देखने को मिले थे, जिसके बाद से ही राजनीति में हलचल पैदा हो गई है ।चर्चाओं पर विराम लगाते हुए कमलनाथ ने कहा कि गौर साहब से मजाक चलता रहता है।इस बाद को ज्यादा बढ़ाया नही जाना चाहिए।

झा के बयान पर पलटवार

कमलनाथ ने भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रभात झा के सिंधिया के दिए हुए चैलेंज ग्वालियर-गुना को छोड़कर कही से भी चुनाव लड़कर बताए पर पलटवार किया है।कमलनाथ ने उल्टा झा को चैलेंज दिया है। उन्होंने कहा है कि झा कोई चुनाव जीतकर तो बताये फिर वह चाहे नगरपालिका का ही क्यों ना हो।

झा ने कमलनाथ के बयान पर किया पलटवार

 भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने कमलनाथ के बयान पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा ने राज्यसभा का सांसद बनाया है। कमलनाथ जी के चुनाव रणनीतिकार  सुरेश पचौरी के चुनावी इतिहास के बारे में बताएं कि उन्होंने कितने चुनाव जीते। वही उन्होंने दिग्विजय के शासनकाल पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि कांग्रेस बताये कि दिग्विजय सिंह की समन्वय यात्रा के दौरान उन्हें सभा करने से क्यों प्रतिबंधित किया गया है।

कर्जमाफी पर बोले

 किसानों की कर्जमाफी पर कमलनाथ ने कहा कि शिवराज किसानों का कर्ज माफ करे तो हमे सबसे ज्यादा खुशी होगी।नही हो हमारी सरकार आएगी तो किसानों का पूर्ण कर्ज माफ किया जाएगा।वही उन्होंने आगामी चुनाव को लेकर कहा कि  चुनाव घोषणा पत्र का पहला ड्राफ्ट इसी हफ्ते तैयार हो जाएगा, जिसमें सभी वर्गों को ध्यान मे रखा जाएगा। खास करके युवा, किसान औऱ महिलाएं।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...