अक्टूबर तक घर-घर पहुंच जाएगी बिजली : शिवराज

मंडला।

मध्यप्रदेश में योजना सौभाग्य के अंतर्गत अब तक 13 लाख 21 हजार 188 घरों में बिजली कनेक्शन देकर रोशनी पहुँचाई जा चुकी है। शेष बचे घरों में आगामी अक्टूबर माह तक बिजली पहुँचाने का लक्ष्य है। मध्यप्रदेश में केन्द्र और राज्य सरकार की प्रभावी पहल पर ऐसे सभी घरों में बिजली कनेक्शन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं, जो वर्षों से अंधेरे में डूबे थे। राज्य के 6 जिलों आगर-मालवा, मंदसौर, इंदौर, खण्डवा, नीमच और देवास में शत-प्रतिशत विद्युतीकरण का लक्ष्य पूरा कर सभी घरों को रोशन कर दिया गया है। वही आदिवासियों के विकास पर आगामी पांच वर्ष में दो लाख करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। यह बात आज मुख्यमंत्री शिवराज ने  रामनगर में राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस का उद्घाटन और तीन दिवसीय आदि उत्सव के उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी की उपस्थिति में कही।

उन्होंने कहा कि  इस योजना का लाभ हर बिजली विहीन परिवार तक पहुँच सके। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी को क्षेत्र के 20 जिलों के 15 लाख 7 हजार 20 कनेक्शन विहीन घरों को बिजली से जोड़ने का लक्ष्य दिया गया है। कंपनी ने अब तक 4 लाख 38  हजार 896 घरों को बिजली कनेक्शन से जोड़ा है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने क्षेत्र के 16 जिलों के 18 लाख 55 हजार 325 बिजली कनेक्शन विहीन घरों के विद्युतीकरण के लक्ष्य के विरूद्ध 5 लाख 71 हजार 704 घरों को रोशन किया है। इसी प्रकार पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा क्षेत्र के 15 जिलों में 7 लाख 16 हजार 851 बिजली कनेक्शन विहीन घरों को बिजली सुविधा मुहैया करवाने के लक्ष्य के विरूद्ध 3 लाख 10 हजार 588 घरों में बिजली कनेक्शन उपलब्ध करवा दिए गए हैं।सौभाग्य योजना में 60 प्रतिशत राशि केन्द्र से अनुदान के रूप में उपलब्ध करवाई जा रही है। शेष 40 प्रतिशत राशि का प्रबंध राज्य शासन एवं तीनों विद्युत वितरण कंपनी द्वारा किया जा रहा है। योजना में आर्थिक, सामाजिक रूप से पिछड़े हितग्राहियों को नि:शुल्क कनेक्शन दिए जा रहे हैं। अन्य हितग्राहियों से 500 रूपए की राशि 10 किश्तों में मासिक विद्युत बिल के साथ ली जाएगी।

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार आदिवासी, गरीबों के कल्याण के लिए निरंतर काम कर रही है। सरकार की हर योजनाएं गांव-गांव तक पहुंचाई जा रही है। पंचायतों को प्रबल बनाया जा रहा है। घर-घर में योजना के माध्यम से बिजली और उज्जवला योजना के तहत रसोई गैस दी जा रही है। आने वालों सालों में सरकार द्वारा युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे, शिक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाया जाएगा।  युवाओं को कई अवसर दिए जाएंगें।