21वीं सदी में अन्धविश्वास हावी, माता को प्रसन्न करने महिला ने जीभ काटकर चढ़ाई

मुरैना

हम 21 वी सदी में पहुँच गए है, लेकिन अंधविश्वास आज भी हावी है। बलि प्रथा जैसी कुरीति के लिए लंबी जंग सामाजिक संगठनों ने लड़ी लेकिन ये खत्म होने का नाम नही ले रही है।  ऐसा ही एक मामला मुरैना जिले में सामने आया जहाँ  भक्ति में लीन एक महिला ने अपनी जुबान काटकर माता के पैरों में चढ़ा दी । घायल महिला को परिजन अस्पताल लेकर पहुचे जहाँ उसका इलाज किया जा रहा है ।

पोरसा तहसील के तरसमा गांव इस गांव को शहीदों के नाम से भी जाना जाता है यहाँ  कि गुड्डी पत्नी रवि सिंह तोमर 42 वर्ष करीब 20 वर्ष से गाँव में ही बने बीजासेन माता के मंदिर पर नियमित पूजा कर रही है हर रोज की भांति आज भी महिला गुड्डी तोमर माता के मंदिर पर पूजा करने गई ।फिर 3 घंटे बाद गांव का ही बच्चा भागता हुआ आया और उसने बताया कि मंदिर में खून पड़ा है तो सब गाँव वालों सहित परिजन भी मौके पर गए तो वहां महिला के मुँह से खून निकल रहा था और महिला की कटी हुई जीभ माता के पैरों में रखी थी परिजन तुरंत घायल महिला व कटी हुई जीव को लेकर  पोरसा स्वास्थ्य केंद्र पहुँचे जहां प्राथमिक उपचार के बाद घायल महिला को मुरैना जिला चिकित्सालय रैफर कर दिया गया है