यूपी के डिप्टी सीएम का दावा 'टेस्ट ट्यूब बेबी थी सीता जी'

नई दिल्ली| धर्म को लेकर भाजपा के नेता अक्सर बयानबाजी करते हैं और घिर जाते हैं| अब उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने एक विवादित बयान दिया है। शर्मा का दावा है कि रामायण काल में सीता का जन्म टेस्ट ट्यूब के जरिए हुआ था और वह टेस्ट ट्यूब बेबी थी| इसके पीछे उनका तर्क है कि पौराणिक कथाओं के अनुसार सीता का जन्म एक घड़े में हुआ था| इसलिए उसे वर्तमान समय में टेस्ट ट्यूब से जोड़कर देखा जा सकता है| 

दिनेश शर्मा ने कहा कि आज के आधुनिक युग से रामायण काल में ज्यादा तकनीकि युग है। आज लाइव टेलीकास्ट हो रहे हैं, मगर मैं मानता हूं कि महाभारत काल में ऐसी ही तकनीक थी, जब संजय धृटराष्ट्र को महाभारत की लड़ाई का लाइव प्रसारण सुनाते थे| 

दरअसल, शुक्रवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि माता सीता धरती से नहीं टेस्ट ट्यूब तरीके से पैदा हुई थीं, . इसके साथ उन्होंने नारद को पहला पत्रकार भी बताया| उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इतना ही नहीं मोतियाबिंद का ऑपरेशन, प्लास्टिक सर्जरी, गुरुत्वाकर्षण सिद्धांत, परमाणु परीक्षण और इंटरनेट जैसी तमाम आधुनिक प्रक्रियाएं पौराणिक काल में ही शुरू हुई थीं| आज जिस गूगल को आप लोग हर विषय के जानकार के रूप में जानते हैं, महाभारत काल में यह काम नारद मुनि करते थे| वह कभी भी, कहीं भी पहुंच जाते थे और हर समस्या का समाधान कर देते थे, वह भी केवल तीन बार नारायण-नारायण, बोलकर| 

बता दें कि इस तरह की बयानबाजी त्रिपुरा के सीएम विप्लव देव भी कर चुके हैं| इससे पहले उन्होंने कहा था कि इंटरनेट महाभारत काल से ही था। उन्होंने कहा था कि इंटरनेट की उत्पति महाभारत काल में ही हुआ था क्योंकि इस दौर में धृतराष्ट ने लड़ाई दीवार पर देखी थी। विप्लव देव ऐसे कई बयान देकर विवादों में घिर चुके हैं|