Breaking News
जेल की हवा खाने वाली 'भांजियों' को नहीं मिलेगी ऊंचाई में छूट! | कैबिनेट बैठक, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | आईएएस दीपाली रस्तोगी का नया फरमान फिर चर्चाओं में.. | आईएएस दीपाली रस्तोगी का नया फरमान फिर चर्चाओं में.. | कांग्रेस के पोस्टर वॉर पर बोले पवैया- सूत न कपास, जुलाहों मैं लट्ठमलट्ठा | अगला CM कौन... 'सिंधिया' या 'कमलनाथ', पोस्टर वॉर से कांग्रेस में मचा घमासान | जूडा का अनोखा विरोध, MYH के सामने लगाई समानांतर ओपीडी | संगठन नहीं शिवराज के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी भाजपा | अटकलों पर लगा विराम, किसी भी कीमत पर नही बिकेगा किशोर कुमार का पुश्तैनी घर | अंतर्राज्यीय चंदन तस्कर गिरोह का पर्दाफाश, वर्दी का रौब दिखाकर करते थे तस्करी |

जब शिक्षिका पर भड़के मुख्यमंत्री..!

देहरादून।

कई राज्यों में इस साल और कईयों में अगले साल चुनाव होना है। लेकिन राज्यों के नेताओं-मंत्रियों ने अभी से तैयारियां शुरु कर दी है।इसी कड़ी में गुरुवार को उतराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जनता दरबार लगाया और लोगों की समस्याएं सुनी।इसी बीट एक शिक्षिका उत्तरा पंत बहुगुणा अपने ट्रांसफर की मांग को लेकर पहुंची।लेकिन समाधान ना होने पर वह मुख्यमंत्री पर भरे दरबार में बिफर उठी।इसके बाद  मुख्यमंत्री शिक्षिका की बातों पर इस कदर भड़के कि उन्होंने वहीं बैठे-बैठे शिक्षिका को सस्पेंड करने का आदेश सुनाते हुए कहा कि उन्हें जनता दरबार से बाहर निकलवा दिया।

इसके बाद पुलिस और सुरक्षाकर्मी महिला को जबरन सीएम आवास से बाहर ले गए। शिक्षिका के द्वारा हंगामा करने के कारण काफी देर तक सीएम आवास पर अफरा-तफरी की स्थिति बनी रही। इस पूरे मामले पर विपक्ष ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की आलोचना की। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने त्रिवेंद्र सिंह रावत पर निशाना साधा। उत्तराखंड के पूर्व सीएम ने हरीश रावत ने कहा कि हमारा सिस्टम कितना असंवेदनशील हो गया है कि एक विधवा शिक्षिका को 25 साल तक रिमोट एरिया में तैनात किया, जिससे की कोई भी उसकी बात नहीं सुने। पूर्व सीएम ने कहा कि उसका निलंबन रोका जाना चाहिए।




  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...