Breaking News
फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग | राहुल के भोपाल दौरे पर वीडियो वार..'कांग्रेस हल है या समस्या' | कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन: 11 कन्याओं ने उतारी राहुल की आरती, 21 पंडितों ने किया मंत्रोचार |

UPSC की परीक्षा में 4 मिनट देरी से पहुंचा, नहीं मिली एंट्री, छात्र ने दे दी जान

नई दिल्ली| संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) परीक्षा की तैयारी कर रहे एक परीक्षार्थी ने रविवार को पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली है।  एग्जाम सेंटर पर देर से पहुंचने के कारण उसे एंट्री नहीं दी गई। यह उसका आखिरी मौका था। इसी कारण हताश होकर उसने घर पहुंचकर आत्महत्या कर ली| वरुण सुभाष चंद्रन नाम का यह छात्र मूल रूप से कर्नाटक के कुमाता शहर से था और पिछले कुछ सालों से दिल्ली के राजिंदर नगर में रह रहा था। उनके पिता एक सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारी हैं। उसके कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें वरुण ने अपनी मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया है।

दरअसल, रविवार को यूपीएससी की प्रीलिम परीक्षा थी, जिसमें वरुण चंद मिनटों की देरी से पहुंचा था। पुलिस को एक पेज का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने केंद्र पर देरी से पहुंचने की बात कर माता-पिता से उसे भूलने की बात लिखी है। पुलिस ने सोमवार को पोस्टमार्टम के बाद वरुण का शव परिजनों को सौंप दिया है। परिवार शव लेकर कर्नाटक रवाना हो गया। राजेंद्र नगर थाना पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। साथ ही उसके दोस्तों से पूछताछ और परीक्षा केंद्र पर भी जांच की जा रही है।  वरुण के माता-पिता व परिवार के बाकी सदस्य कर्नाटक में रहते हैं। परिवार में पिता एम.डी सुभाष चंद्रन, मां पदमजा, एक बहन व जीजा हैं। पिता सरकारी विभाग में वैज्ञानिक थे। फिलहाल वह रिटायर हैं। धरवाड़ से इंजीनियरिंग करने के बाद वरुण यूपीएससी की तैयारी करने दिल्ली आ गया था। फिलहाल वह राजेंद्र नगर स्थित एक कोचिंग सेंटर से पढ़ाई कर रहा था। 

वरुण ने कमरे में एक सुसाइड नोट छोड़ा है| जिसमे उसने लिखा है ‘मैं सुबह 8.45 बजे एग्जाम देने के लिए पहाड़गंज स्थित गलत सेंटर पर पहुंच गया था। गलती का एहसास होने के बाद जब अपने सेंटर पर पहुंचा, तब तक सुबह के 9.24 बज चुके थे। देर से पहुंचने के कारण एग्जाम नहीं देने दिया गया। नियम तो नियम हैं, लेकिन अच्छे काम के लिए उसमें थोड़ी ढील की गुंजाइश होनी चाहिए। मेरी मौत के लिए कोई भी जिम्मेदार नहीं है। यह कदम उठाने के लिए मैं माता-पिता और परिजनों से माफी मांगता हूं। उम्मीद करता हूं कि वे जितनी जल्दी इसे भूल जाएं।’  वरुण ने देर से पहुँचने पर एग्जाम देने के लिए कई मिन्नतें भी की, लेकिन किसी ने एक नहीं सुनी। इस बात से वरुण ने हताश होकर फांसी लगा ली।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...