किसानों को सरकार का तोहफा, रबी फसलों के समर्थन मूल्य में वृद्धि, 105 रु बढ़ा गेंहूं का MSP

नई दिल्ली| देश भर के किसानों के लिए एक बार फिर मोदी सरकार ने खजाना खोल दिया है| खरीफ की फसल के लिए समर्थन मूल्य डेढ़ गुना बढ़ने के बाद अब रबी फसलों के न्यूनतन समर्थन मूल्य (MSP) में बढ़ोतरी की है| बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में 2018-19 सीजन के लिए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 105 रुपए बढ़ाकर 1840 रुपए प्रति क्विंटल किए जाने को मंजूरी दे दी है। एक दिन पहले मंगलवार को ही किसानों का हुजूम अपनी मांगों के साथ हरिद्वार से दिल्ली पहुंचा जिन्हें पहले यूपी-दिल्ली बॉर्डर पर ही रोक लिया गया था| किसानों के इस प्रदर्शन के अगले ही दिन सरकार ने बड़ा फैसला लिया है| 

कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने एक प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से कैबिनेट के फैसलों की जानकारी दी। फसल वर्ष 2017-18 के लिए गेहूं की एमएसपी 1735 रुपये प्रति क्विंटल थी. कैबिनेट ने कृषि सलाहकार इकाई CACP की सिफारिशों के अनुसार एमएसपी में बढ़ोतरी की है, वहीं, सरकार का यह फैसला किसानों को उनकी लागत पर 50 फीसदी मुनाफा देने के एलान के अनुरूप भी है| 

केंद्र सरकार ने सरसों के एमएसपी में 200 रुपए की बढ़ोत्तरी की है। इसके अलावा मसूर की एमएसपी 225 रुपए बढ़ाकर 4475 रुपए, चने की एमएसपी 220 रुपए बढ़ाकर 4620 रुपए, जौ की एमएसपी 30 रुपए बढ़ाकर 1440 रुपए कर दी गई है। सरकार फार्म एडवाइजरी बॉडी CACP की सिफारिश के आधार पर एमएसपी में बढ़ोतरी करती है और यह सरकार की किसानों को प्रोडक्शन कॉस्ट पर 50 फीसदी प्रॉफिट उपलब्ध कराने की घोषणा के क्रम में है। हालांकि अभी कैबिनेट के फैसलों की पूरी जानकारी सामने नहीं आई है|