सोशल मीडिया पर छिड़ी भाजपा-कांग्रेस के बीच जंग, मुद्दा बना 'महिलाओं का अपमान'

रायपुर

प्रदेश में इस साल होने वाले विधानसबा चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी तैयारियों में जुट गए हैं। बात चाहे जनता के बीच जाने की हो या फिर एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने की, चाहे विकास कार्यों की गिनती करवानी हो या फिर एक दूसरे पर कटाक्ष करने की। सभी नेता चुनावी माहौल में रंग चुके हैं और इन सबके बीच सोशल मीडिया का भी इस्तेमाल जमकर किया जा रहा है।राजनेता अब आमने-सामने का दंगल नहीं कर सोशल मीडिया के मैदान का इस्तेमाल कर एक-दूसरे को पटखनी देने की जीतोड़ कोशिशों में जुट गए हैं। ताजा मामला रायपुर से सामने आया है।यहां कांग्रेस ने महिलाओं के अपमान को मुद्दा बना लिया है और भाजपा पर जमकर हमले बोल रही है। वही भाजपा भी पीछे हटने वालो में से नही वह भी काउंटर वार करने से नही चूक रही है। इसी बीच यूजर्स भी अपनी राय से जलती आग में घी का काम कर रहे है।

दरअसल, तीन दिन पहले पार्टी अध्यक्ष अमित शाह छतीगगढ़ के दौरे पर थे। यहां शाह भिलाई में महिला सम्मेलन को लेकर रैली की। लेकिन भाजपा कार्यकर्ताओं ने वहां आई महिलाओं और युवतियों के अंडरगारमेंट्स की भी तलाशी की। ये सब इसीलिए किया गया क्योंकि अमित शाह को कोई काली पट्टी ना दिखा दे। भाजपा के पधाधिकारी इस बात को लेकर चिंतित थे कि वहां आई कोई महिला शाह को काले कपड़े दिखा कर विरोध ना कर दे।अब इस मामले पर सियासत होने लगी है। विपक्ष ने भाजपा को सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक घेरना शुरु कर दिया है। पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल से लेकर नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव और कांग्रेस आइटी सेल तक महिलाओं के वस्त्रों की जांच वाले फोटोग्राफ्स के साथ भाजपा पर लगातार हमला कर रहे हैं। भाजपा के आइटी सेल ने भी कांग्रेस के पोस्ट का काउंटर किया है। 

पीसीसी चीफ भूपेश बघेल का कहना है कि  'यह बेहद शर्मनाक पहलू है कि अमित शाह की रैली के दौरान महिलाओं के अंदस्र्नी कपड़ों की की भी जांच की गई। मां, बहन, बेटियों के इस अपमान को कांग्रेस बर्दाश्त नहीं करेगी। महिलाओं का अपमान करने वाली इस सरकार को उखाड़ फेंकने का वक्त आ चुका है। 

नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने कहा कि चरौदा में सुरक्षा तंत्र ने हद पार कर दी। यह बेहद निंदनीय है। इसके लिए जो लोग जिम्मेदार हैं, उन पर तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए। जो इस व्यवस्था का प्रभारी था उसकी भी जिम्मेदारी बनती है।'

कांग्रेस की छग आइटी सेल ने लिखा है कि अरे बीजेपी फॉर सीजी स्टेट वालों। प्रदेश की नारी शक्ति के साथ की गई शर्मनाक हरकत एपं छत्तीसगढ़ महतारी के अपमान के लिए डॉ. रमन सिंह और अमित शाह को सार्वजनिक माफी मांगनी चाहिए। आपने पूरे छत्तीसगढ़ को राष्ट्रपटल पर शर्मसार किया है।' 

वही इस हमले पर भाजपा की आईटी सेल ने पलटवार करते हुए लिखा है कि  खबरों को क्रॉप कर, झूठ फैला रही है कांग्रेस। लाशों की राजनीति करने वाले अब महिलाओं को लज्जित करने वाली राजनीति कर रहे हैं। पोस्टर में खबर की कतरन भी डाली गई है, उसमें बताया गया है कि जिस हिस्से को कांग्रेस आइटी सेल ने क्रॉप किया है, उसमें साफ लिखा है कि यह कांग्रेस का सवाल है, न कि किसी महिला ने शिकायत की है। यह बेहद शर्मनाक है।'