Breaking News
पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी, कहीं ठेले पर बाईक रख जताया विरोध तो कहीं धरने पर बैठे कांग्रेसी | VIDEO : भूरी टेकरी विस्थापन को लेकर निगम की कार्रवाई, कांग्रेस विधायक ने मांगी मोहलत | राहुल गांधी के कार्यक्रम पर प्रशासन की 19 शर्तें, सिर्फ 15 फ़ीट के टेंट में सभा की इजाजत | VIDEO : भोपाल मेयर की सख्त कार्रवाई, नगरनिगम की ट्यूबवेल से हटवाया दबंग का कब्जा | कमलनाथ ने कार्यकर्ताओं को दिए निर्देश, मंडी में किसानों के साथ मिल सरकार के खिलाफ करें प्रदर्शन | प्रधानमंत्री योजना का आवास ना मिलने पर ग्रामीण ने खाया जहर, सरपंच-सचिव पर लगाया रिश्वत मांगने का आरोप | फेसबुक पर कलेक्टर को जान से मारने की धमकी, गृहमंत्री और सांसद पर भी आपत्तिजनक पोस्ट | 23 करोड़ का आईएएस.. | कांग्रेस प्रदेश कार्यसमिति का गठन, 20 जिला अध्यक्षों की घोषणा, दिग्विजय को अहम जिम्मेदारी | शिवराज कैबिनेट के फैसले, यहां पढ़िए विस्तार से |

मोटरसाइकिल से 'न्याय यात्रा' पर निकले सेवानिवृत जज श्रीनिवास, दिल्ली पहुंचकर करेंगें राष्ट्रपति से बात

नीमच।

मध्यप्रदेश के नीमच जिले के बर्खास्त अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके श्रीवास ने फिर से सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कई तबादलों के बाद निलंबन और अब अनिवार्य सेवानिवृत किये जाने को लेकर श्रीनिवास ने मोटरसाइकिल से न्याय यात्रा निकालनी शुरु कर दी है।यात्रा आज गुरुवार सुबह 7 बजे से शुरु की गई है, जो नीमच से दिल्ली पर जाकर खत्म होगी।वे यहां  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगें और उचित कार्रवाई की मांग करेंगे।वही उनके साथ परिवार के सदस्य और उनके दोस्त साथ रहेंगे जो बारी-बारी से नई दिल्ली तक साथ रहेंगे। नईदिल्ली में वे सुप्रीम कोर्ट से भी न्याय की गुहार लगाएंगें। 

बता दे कि इतिहास में ये पहली बार हो रहा है कि जब कोई सेवानिवृत न्यायाधीश इस प्रकार से न्याय यात्रा पर निकल रहा है।

दरअसल, नीमच के अतिरिक्त जिला सत्र न्यायाधीश (एडीजे) आर.के. श्रीवास ने नीमच में सुबह ज्वाइन किया और शाम को उन्हें निलंबित कर दिया था। इसके बाद 19 अगस्त को उन्होंने नीमच से जबलपुर तक साइकिल से न्याय यात्रा की शुरुआत की थी। 26 अगस्त को जबलपुर पहुंचकर उच्च न्यायालय के सामने धरना दिया। धरने के तीसरे दिन उच्च न्यायालय के सामने प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी थी, जिसका पालन करते हुए उन्होंने अपना धरना खत्म कर दिया और नीमच लौट आए। तबादला नीति की अनदेखी करते हुए एडीजे का डेढ़ साल के भीतर धार से शहडोल, शहडोल से सिहोरा, सिहोरा से जबलपुर हाईकोर्ट और नीमच कर दिया गया। 8 अगस्त, 2017 को नीमच में उन्होंने 2 बजे कार्यभार ग्रहण किया था और शाम 6 बजे उन्हें फैक्स से निलंबन आदेश प्राप्त हुआ। बाद में श्रीवास को अनिवार्य रूप से सेवानिवृति दे दी । इसके बाद उन्होंने न्याय यात्रा निकालने का फैसला लिया और आज से यात्रा की शुरुआत कर दी है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...