Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

टीआई ने आधी रात सरपंच को उठाया, ग्रामीणों ने घेर लिया थाना, आक्रोश देख पुलिस के हाथ-पैर फूले

नीमच

मध्यप्रदेश के नीमच जिले में आज सोमवार को करीब 700-800 किसान थाने का घेराव करने पहुंच गए। किसानों का आरोप है कि थाना प्रभारी ने सरपंच से मारपीट औऱ बदसलूकी की है, इसलिए थाना प्रभारी समरथ सिनम के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। घेराव की खबर मिलते ही एसडीएम गरिमा रावत और एसडीओपी नरेंद्र सिंह सोलंकी मौके पर पहुंच गए हैं और उन्होंने किसानों को समझाने की कोशिश की।मामला सिंगौली थाने का है।

वही धाकड समाज के लोगों ने एसपी टीके विद्यार्थी से मांग की है कि टीआई के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। सूत्र बताते है कि अफीम और डोडाचूरा के झूठे केस में फंसाने का प्लॉन टीआई का था। 

जानकारी के अनुसार, रविवार देर रात चैकिंग के दौरान थाना प्रभारी सिमन और सरपंच के बीच विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ गया कि ग्राम शहना तलाई सरपंच  रामचंद्र धाकड़  के साथ पुलिस ने बदसलूकी कर दी।देखते ही देखते वहां सैकड़ों ग्रामीण इकट्ठा हो गए। जब उन्होंने विरोध किया तो मारपीट करते हुए उन्हें डराने के लिए पुलिस ने हवाई फायर कर दिए। इसके बाद रामचंद्र को घसीटकर थाने ले गई। इसी के विरोध में आज सैकड़ों किसान थाने प्रभारी के खिलाफ एफआईआर करने की मांग को लेकर सिंगौली थाना पहुंचे।हालांकि किसानों के घेराव करने के बाद रामचंद्र को छोड़ दिया गया था।वही  थाने के घेराव की खबर मिलते ही आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए और उन्हे समझाइश देने की कोशिश करने लगे, लेकिन किसानों ने उनकी एक ना मानी और नारे लगाते रहे। किसानों ने मांग की है कि जब तक थाना प्रभारी के खिलाफ मामला दर्ज नही किया जाएगा वे वापस नही जाएंगें।वही ग्रामीणों के आरोप को खारिज करते हुए पुलिस ने फायरिंग की बात से इंकार किया है। उन्होंने कहा है कोई फायरिंग नही की गई पहले ग्रामीणों ने ही  मारपीट शुरु की थी। जिला पुलिस अधीक्षक टी के विद्यार्थी ने एसडीओपी जावद नरेंद्र सोंलकी को सिंगोली भेजा है और पूरे मामले पर जांच करने की बात कही है।फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।


बताया जा रहा है कि टीआई ने सरपंच को एक साजिश के तहत आधी रात को चुपचाप उठाया। उसे एनडीपीएस एक्ट या किसी फर्जी केस में फंसाने का प्लन टीआई सिनम का पहले से था। लेकिन सरपंच को उठाने की खबर सुबह आग की तरह पूरे गांव में फैल गई । आक्रोशित गांव वाले सीधा थाने का घेराव करने पहुंच गए और  इस मामले की निष्पक्ष जांच करने की मांग करने लगे।

कांग्रेस नेता एवं धाकड समाज के  वरिष्ठ समाजसेवी समंदर पटेल ने इस मामले में टीआई के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। पटेल ने कहा कि आधी रात को सरपंच को  घर से उठाया है। एक जनप्रतिनिधि को इस तरह से उठाना टीआई की मंशा को साफ जाहिर करता है। 

इस मामले में टीआई समरथ सिनम का कहना है कि कुछ मामला सरपंच के खिलाफ नहीं बनाया है। ननौरा के तीन मुखबिरों के साथ मारपीट हुई थी। अफीम और डोडाचूरा के मुखबिर की शंका में तीन लोगों को ग्रामीणो ने पकडा था। सरपंच रामचंद्र धाकड से भी विवाद हुआ था। सरपंच को छोड दिया गया है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...