ग्राउंड रिपोर्ट: इस विधानसभा में है बीजेपी को हार का डर!, कांग्रेस पलट सकती है बाजी

नीमच। श्याम जाटव।

यह विधानसभा क्षेत्र धाकड़-पाटीदार समाज का बाहुल्य माना जाता है और इसी का फायदा उठाकर भाजपा 9 और कांग्रेस 5 बार जीती है। वर्तमान में भाजपा विधायक ओमप्रकाश सखलेचा का भारी विरोध है। सखलेचा तीन बार से लगातार चुनाव जीते हैं लेकिन उन्होंने अभी तक क्षेत्र में ऐसा कोई खास  विकास  कार्य नहीं किया। इससे जनता में नाराजगी साफ दिख रही है और इसका खामियाजा चुनाव में भाजपा को भुगतना पड़ सकता है।

मप्र की अंतिम विधानसभा जावद पूर्व मुख्यमंत्री वीरेंद्र कुमार सखलेचा का गृहनगर है और पिछले 15 साल से उनके बेटे यहां से विधायक है। कांग्रेस में गुटबाजी और प्रत्याशी चयन के दौरान खूब राजनीति होती है और इसी का लाभ उठाकर भाजपा जीत रही है।

-भाजपा को विकल्प की तलाश

विधायक सखलेचा के खिलाफ बन रहे माहौल को देखते हुए  भाजपा नया चेहरा तलाश रही है। सखलेचा ने क्षेत्र में अपने समकक्ष किसी को आगे नहीं बढऩे दिया और  इसी वजह से अंदरूनी माहौल को देखते हुए पार्टी विकल्प तलाश रही है। संघ की चली तो नरेंद्र गांधी या जनपद पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि पूरण अहीर के नाम पर विचार हो सकता है। इस विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस-भाजपा में सीधी टक्कर रहीं है। तीसरी पार्टी का यहां पर कोई खास वजूद नहीं रहा।

-9 बार भाजपा के विधायक रहे, इस बार कठिन है डगर

जावद विधानसभा परंपरागत रूप से भाजपा की सीट रही है। यहां पर सबसे ज्यादा 9 बार भाजपा के विधायक चुने गए। लेकिन 2018 के चुनाव में काफी उठापटक हो सकती है। केंद्र व प्रदेश में भाजपा सरकार होने के बावजूद कोई खास विकास नहीं होना भाजपा को भारी पड़ सकता है। 15 साल से सत्ता से दूर कांग्रेस इस स्थिति का फायदा उठा सकती है लेकिन प्रत्याशी सर्वमान्य पेश करना होगा।

-कांग्रेस जीतने वाले पर लगाएगी दांव

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पहले ही स्पष्ट कर दिया जनता के बीच में लोकप्रिय व्यक्ति को टिकट देगी और यहीं बात राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 6 जून को पिपलियमंडी में कहीं थी। यहां से 2008 में कांग्रेस के टिकट और दूसरी दफा 2013 में पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर बागी होकर चुनाव लड़े राजकुमार अहीर लोगों के बीच सक्रिय है। अहीर ने दोनों चुनाव में विधायक सखलेचा को कड़ी टक्कर दी।  राजकुमार ने 2018 में फिर से चुनाव लडऩे की मंशा पार्टी  के बड़े नेताओं को बता दी। इन्हें रोकने के लिए इंदौर के कारोबारी समंदर पटेल और पूर्व जनपद अध्यक्ष सत्यनारायण पाटीदार तैयारी कर रहे है।

-करोड़ो का विकास हुआ

 जावद विधायक ओमप्रकाश सखलेचा का कहना है कि  क्षेत्र में करोड़ो रूपए के विकास कार्य हुए। सडक़, बिजली जैसी सुविधाएं जनता को मिली है। कांग्रेस के शासन में किसानों को 2-3 घंंटे मिलती थी और भाजपा की सरकार में 24 घंटे बिजली मिल रही।

-केवल घोषणा करते है

इस विधानसभा से 2013 में निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले राजकुमार अहीर कहते हैं कि  14 साल से विधायक केवल घोषणाएं करते आए है। क्षेत्र का कोई विकास नहीं हुआ। लोग आज भी बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहे। अपने पिता पूर्व मुख्यमंत्री स्व. वीरेंद्र कुमार सखलेचा की याद में अस्पताल बनाना था अभी तक नहीं बना। 



कुल मतदाता
165365
मतदान केंद्र
215
पुरूष मतदाता
85518
महिला मतदाता
79844
अन्य
03



"To get the latest news update download tha app"