Breaking News
स्वास्थ्य विभाग में मंत्री का आदेश रद्दी की टोकरी में | मोदी सरकार के 4 साल : बैलगाड़ी, ठेला अैर साइकिल पर सवार होकर कांग्रेस ने मनाया 'विश्वासघात दिवस' | मैं सेवा की ऐसी लकीर खींचूंगा, जिसे मेरे मरने के बाद भी मिटाया न जा सकेगा : शिवराज | पुलिसवाले के दोस्त ने युवतियों से की छेड़छाड़, चप्पलों से हुई पिटाई, खाकी पर उठे सवाल | बैतूल में आज एक और किसान ने की आत्महत्या, सड़क पर शव रख ग्रामीणों ने किया चक्काजाम | MP : मोदी सरकार के चार साल, कांग्रेस मना रही 'विश्वासघात' दिवस | विश्वासघात दिवस : कांग्रेस नेता ने गिनाई मोदी सरकार की 5 नाकामियां | VIDEO : कंटेनर से जा भिड़ा पायलेटिंग वाहन, बाल-बाल बचे स्वास्थ्य मंत्री, 3 पुलिसकर्मी घायल | VIDEO : विधायक ने 'हमसफ़र' को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पहले दिन यात्री दिखें उत्साहित | 6 जून से पहले जिलों में जाकर किसानों को मनाएंगे मुख्यमंत्री  |

6 साल पहले गोलीकांड में किसान की मौत, कांग्रेस धार्मिक आयोजन के बहाने सेंक रही राजनीतिक रोटियां

भोपाल/रायसेन |  प्रदेश में विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है, ऐसे में दोनों ही राजनीतिक दल अपनी तैयारियों में जुट गई है और जनता को अपने पाले में लाने के लिए तमाम हथकंडे अपनाये जा रहे हैं| वहीं बात करें कांग्रेस की तो इन दिनों रायसेन जिले के बरेली में कांग्रेस वर्ष 2012 में हुए किसान आंदोलन के दौरान पुलिस फायरिंग में मारे गए किसान हरिसिंह प्रजापति की मौत पर राजनीतिक रोटियां सेंकने की कोशिश में है, जिसकी भारी आलोचना भी हो रही है और कहीं न कहीं कांग्रेस का यह कदम पार्टी को नुकसान पहुंचा रहा है| 

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के पूर्व सांसद सुरेंद्र सिंह ठाकुर के नेतृत्व में गोलीकांड में मारे गए हरिसिंह प्रजापति की स्मृति में मानस सत्संग भवन में सात दिवसीय भगवत कथा का आयोजन किया जा रहा है| पार्टी के ही कई छुटभैया नेता और कार्यकर्ता इस बात का भी दबी जुबान में प्रचार कर रहे हैं कि यह आयोजन गोलीकांड में मारे गए किसान हरिसिंह प्रजापति की स्मृति में कराया जा रहा है| जबकि मृतक के पुत्र की इस आयोजन में कोई सहभागिता नहीं है| मृतक के पुत्र का कहना है कांग्रेस जो कर रही है उससे उनका कोई लेना देना नहीं है| भाजपा सरकार द्वारा दी गई सहायता राशि एवं शासकीय नौकरी से वह पूरी तरह संतुष्ट है| सूत्रों के मुताबिक इस कथा के आयोजन के नाम पर लाखों रुपए चन्दा भी एकत्रित किया जा रहा है| अब क्षेत्र में इस बात को लेकर जबरदस्त चर्चा है| छह साल पहले हुई घटना पर कांग्रेस द्वारा राजनीतिक रोटियां सेंकने का प्रयास पार्टी की छवि को भी नुकसान पहुंचा रही है| लोग इसकी आलोचना भी कर रहे हैं| 

सवाल खड़ा होता है कि जब किसान आंदोलन में हरिसिंह की मौत हुई थी, तब कांग्रेस के जिम्मेदार नेताओं ने उनके परिवार को कोई सहायता प्रदान नहीं की| चुनाव नजदीक आते ही इस मामले पर फिजूल की राजनीति की जा रही है| वहीं इस बात की भी चर्चा है कि भागवत कथा को संपन्न कराने के लिये लाखों का चंदा एकत्रित किया गया है और समापन अवसर पर प्रदेश कांग्रेस के कई बड़े नेता बरेली आएंगे और मानस सत्संग भवन में मृतक किसान की मूर्ती का अनावरण भी करेंगे| वहीं इस आयोजन को लेकर फिलहाल कांग्रेस पूरी तरह चुप्पी साधे हुए है|  

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...