'जन कल्याण योजना' के लिए हर पंचायत में 5 सदस्यीय मॉनिटरिंग समिति गठित करेगी सरकार

रायसेन।

आज मैं भाषण देने के लिए नहीं आया हूँ, बल्कि गरीबों के कल्याण और सामाजिक सुरक्षा की दुनिया की सबसे बड़ी योजना मुख्यमंत्री जन कल्याण योजना (संबल) की जानकारी देने आया हूँ। यह योजना नवजात शिशु से लेकर वयोवृद्ध तक का जीवन बदलने वाली है।सरकार ने प्रत्येक पंचायत में 5 सदस्यीय मॉनिटरिंग समिति गठित करने का निर्णय लिया ताकि इस योजना (संबल) की जानकारी हर व्यक्ति तक पहुँचे और वह उसका लाभ उठा सके। योजना के लाभ 13 जून से जनपद मुख्यालयों पर कार्यक्रम आयोजित कर प्रदान किए जाएंगे।विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य के लिए मैं रायसेन ज़िले में इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने की घोषणा कर रहा हूँ। यह बात मुख्यमंत्री शिवराज ने आज रायसेन के दशहरा मैदान में मुख्यमंत्री जन कल्याण योजना (संबल) के तहत आयोजित तेंदूपत्ता संग्राहक और असंगठित श्रमिकों के सम्मेलन में कही ।

उन्होंने कहा कि मैं जब मुख्यमंत्री बना, तो सबसे पहले गरीब भाई-बहनों को 1 रुपए प्रति किलो की दर से गेहूं, नमक, चावल देने की शुरुआत की। अब सरकार गरीब भाई-बहनों को इस योजना के तहत कई प्रकार के लाभ देने जा रही है।जो आवेदन देगा, उसकी जाँच वही करेगा। आवेदन की जाँच कोई कलेक्टर, पटवारी, अधिकारी नहीं करेगा। योजना में मेरे सभी गरीबों को रहने की ज़मीन का टुकड़ा दिया जायेगा। गरीब को सहायता देने के साथ सरकार आमदनी बढ़ाने के लिए भी अवसर दे रही हैं। 4 अगस्त को सभी ज़िलों में स्वरोज़गार हेतु रोज़गार मेले का आयोजन किया जाएगा।इस योजना के तहत रायसेन में 3.17 लाख गरीबों का पंजीकरण हो चुका है। सरकार ने तय किया है कि प्रदेश में कोई भी गरीब बिना ज़मीन के नहीं रहेगा। प्रदेश में हर साल 10 लाख मकान बनेंगे व 4 साल में कुल 40 लाख मकान बनेंगे। मकान आपको ही बनाना है, सरकार आपको इसके लिए धनराशि देगी।