Breaking News
जब मध्य प्रदेश की मंत्री को महंगा पड़ा था अंबानी का विरोध | MP: कांग्रेस-बसपा गठबंधन की संभावना बरकरार, हो सकता है गुप्त समझौता | SC-ST एक्ट पर BJP में फूट: शिवराज के ऐलान से नाराज उदित राज, दे डाली यह नसीहत | दर्दनाक हादसा: दो कारों की भिड़ंत में जनपद सीईओ समेत 4 लोगों की मौत | कैसे पूरी होगी शिवराज की यह घोषणा | कांग्रेस की उम्मीदों पर फिर पानी, बसपा ने जारी की प्रत्याशियों की पहली सूची | डंपर काण्ड: CM के खिलाफ याचिका खारिज, SC ने कहा-'चुनाव लड़ना है तो मैदान में लड़ें, कोर्ट में नहीं' | बीजेपी विधायक का आरोप, सवर्ण आंदोलन के लिए हो रही विदेशी फंडिंग | व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! |

PWD मंत्री के विधानसभा क्षेत्र में भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ी करोड़ों की नहरें

रायसेन। 

मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचार जोरों पर है। कुछ ऐसा ही नजारा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के संसदीय क्षेत्र और प्रदेश सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री ठाकुर रामपाल सिंह राजपूत के विधानसभा क्षेत्र सिलवानी में  देखने को मिला है । मंत्री रामपाल सिंह की विधानसभा क्षेत्र में किसानों की सिंचाई के लिए तीन जलाशय योजना शुरू की गई थी, जिसमें 3500 किसानों की 5000 हेक्टेयर कृषि भूमि को सिंचित किया जाना था । इसी के तहत सिलवानी तहसील के आदिवासी अंचल में जल संसाधन विभाग के द्वारा शालाबर्रु जलाशय योजना सेमराखास जलाशय योजना तथा नगपुरा नगझिरी जलाशय  योजना का निर्माण कार्य कराया गया था। वही  तीनों ही जलाशयों के निर्माण में 21 करोड़ के करीब राशि का व्यय किया जाना था।लेकिन इसके बावजूद करीब 3 साल पूर्व निर्मित कराई गई यह 21 करोड़ की लागत से बनने वाली नेहरो का लाभ किसानों को नहीं मिल पा रहा है।इसमें कहीं ना कहीं निर्माण के समय भ्रष्ट अधिकारियों की मिलीभगत से निर्माण एजेंसी के द्वारा बड़े पैमाने पर घटिया निर्माण कार्य किया जाना बताया जा रहा है। तय मापदंड बाली सामग्री का उपयोग ना किए जाने से जलाशय की नहरे पूर्णता क्षतिग्रस्त हो गई।

ग्रामीणों की माने तो  जलाशय योजना के तहत करीब सौ किलोमीटर लंबी नहरों का निर्माण कार्य किया गया था और तो और नेहरो के निर्माण में नदी की काली रेत का उपयोग भी किया गया था । वही जलाशय नहरों में भ्रष्टाचार के मामले पर सिलवानी एसडीएम अनिल जैन का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सबसे करीबी माने जाने वाले बीजेपी के कद्दावर नेता ओर प्रदेश में पीडब्ल्यूडी मंत्री रामपाल सिंह राजपूत की विधानसभा क्षेत्र में सरकारी योजनाओं का किस तरीके से भ्रष्टाचार हुआ है । इस को देखकर साफतौर अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रदेश भर में सरकारी योजनाओं में भ्रष्टाचार के मामलों में क्या हालात होंगे।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...