सूदखोर से प्रताड़ित होकर किसान ने की आत्महत्या, मृतक को शव वाहन भी नहीं हुआ नसीब

रायसेन ।

केंद्र सरकार से लगातार मध्यप्रदेश सरकार कृषि कर्मण अवार्ड ले रही है, तो वहीं मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार को किसान हितेषी सरकार बताया जाता है। उसी प्रदेश में कर्ज में डूबे किसानों के हालात ठीक नहीं है। प्रदेश में लगातार किसानों की आत्महत्या के मामले सामने आ रहे हैं ।एक और किसान ने सूदखोर के कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। रायसेन सिलवानी के हमीरपुर गांव में युवा किसान कुलदीप रघुवंशी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली मृतक कुलदीप ने आत्महत्या करने से पहले सुसाइड नोट लिखा जिसमें सूदखोरों से परेशान और प्रताड़ित होने की बात लिखीय़ कुलदीप ने लिखा कि उसका सोना सूदखोरों के पास रखा है। थाना प्रभारी शर्मा जी वह मेरी पत्नी को दिला देना उधर कुलदीप के भाई का कहना है कि वह लगातार सूदखोरों से परेशान था उसे पैसों के लिए प्रताड़ित किया जा रहा था। इतना ही नहीं कुलदीप से काफी ब्याज लगाकर पैसों की राशि डबल वसूल की जा रही थी ।

इस आत्महत्या मामले में सिलवानी पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है। सुसाइड नोट की भी जांच की जा रही है ।उधर सिलवानी सामुदायिक केंद्र में मृतक कुलदीप के पोस्टमार्टम के बाद मृतक को शव वाहन तक नसीब नहीं हुआ ।जिसके चलते परिजनों को ट्रैक्टर ट्राली से मृतक कुलदीप का शव अंतिम संस्कार के लिए घर ले जाना पड़ा।