Breaking News
सत्ता मद में चूर भाजपा सिंधिया के खिलाफ कर रही झूठा प्रचार : कांग्रेस विधायक | शिवराज की नजर में ..दिग्विजय 'देशद्रोही' की श्रेणी में | VIDEO : इंदौर महापौर बोली - निगम नही वसूलेगा केबल और डीटीएच पर मनोरंजन शुल्क | एमपी के इस गांव में मिले 25 कैंसर के मरीज, मचा हड़कंप | कारोबारी के यहां आयकर का छापा, 100 किलो सोना और 10 करोड़ कैश बरामद | एमपी में बेरोजगारों की फौज, 1700 पद के लिए डेढ़ लाख आवेदन | दर्दनाक हादसा : ओवरब्रिज से 20 फीट नीचे खेत में जा गिरी बस, एक की मौत, 40 घायल | अखिलेश का शिवराज पर हमला, MP में कही भी ऐसी सड़क नहीं जो अमेरिका से अच्छी हो | VIDEO : गोविंद गोयल के बयान पर बवाल, आपस मे भिड़े कांग्रेसी | शिवराज पहले अपना हिसाब दें, दिग्विजय के कार्यकाल की चिंता न करे : कमलनाथ |

CM शिवराज के शासन में मध्यप्रदेश ने विकास की एक नई गाथा लिखी : PM मोदी

राजगढ़

ये मेरा सौभाग्य है कि मोहनपुरा वृहद सिंचाई परियोजना के लोकार्पण और 3 जल योजनाओं के शिलान्यास का अवसर मिला। इसमें परिश्रम करने वाले हर व्यक्ति को प्रणाम करता हूँ । गर्मी हो या बरसात, राष्ट्र निर्माण के जिस पुनीत कार्य में मेरे श्रमिक भाई-जुटे हैं, मैं उन्हें नमन करता हूं। इन परियोजनाओं का बटन दबाकर लोकार्पण करना तो महज औपचारिकता है, असली लोकार्पण तो आपके पसीने और श्रम से हो चुका है। अब राजगढ़ जिला पुरानी पहचान छोड़कर "आकांक्षी जिला" के रूप में चयनित हुआ है। इस जिले को विकास के नए युग में ले जाएंगे ।सरकार आने वाले समय में ​इन जिलों के सभी गांवों में उज्जला योजना, सौभाग्य योजना, जनधन योजना , इंद्रधनुष योजना को लागू किया जाए।  यह काम पहले भी हो सकता था।  पहले की सरकार को किसी ने रोका नहीं था, पर यह हमारा र्दुभाग्य है।  उन लोगों ने आपकी मेहनत पर भरोसा नहीं किया।  उन्होंने कभी देश के सार्मथ्य पर विश्वास नहीं किया। एक वक्त था जब मध्यप्रदेश को बीमारू राज्य कहा जाता था। कांग्रेस के नेता सरकार में बैठकर बस अपनी जय-जयकार करवाते रहते थे। भाजपा की सरकार आने के बाद मध्यप्रदेश विकास की राह पर बढ़ा है। आपने शिवराजजी को पद दिया है, लेकिन वे एक सेवक की तरह काम करते हैं।शिवराज  के शासन में मध्यप्रदेश ने विकास की एक नई गाथा लिखने का काम किया है। यह बात आज राजगढ़ पहुंचे पीएम मोदी ने कही।

यहां उन्होंने रिमोट कंट्रोल से मोहनपुरा में 3800 करोड़ की लागत से बने डैम का लोकार्पण किया और जनता का अभिवादन किया।इस डैम से क्षेत्र की 1 लाख 34 हजार हेक्टेयर जमीन की सिंचाई की जाएगी।  इसके पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पीएम मोदी को तुलसी की माला पहनाकर उनका स्वागत किया है, उन्हें मालवा शैली का साफा भी पहनाया गया। इसके बाद मोदी ने परियोजना का शुभारंभ किया है। जनता में भी जोश देखा गया । लोगों ने जमकर भारत माता की जय और मोदी-मोदी नारे लगाए।वही पीएम मोदी ने  भी मालवा की लोकभाषा जनता को नमस्कार किया। इसके बाद उन्होंने सभी मंत्रियों का स्वागत किया। इस दौरान जनता पूरे उत्साह के साथ मोदी के नाम के जयकारे लगाती रही।


राजगढ़ बना आकांक्षी जिला

उन्होंने कहा कि आज का राजगढ जिला भी इसी विजन के साथ पिछडे होने की अपनी पहचान को छोडने जा रहा है। सरकार ने इसे आकांक्षी जिलों की सूची में शामिल किया है।  आपके जिले में स्वास्थ्य, शिक्षा, सफाई, पोषण, कृषि जैसे विषयों पर तेजी से काम किया जाएगा। यहां के गांवों में ग्राम स्वराज योजना के तहत सभी सुविधाएं पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। सीएम शिवराज की तारीफ करते हुए मोदी ने कहा कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने पिछले 13 साल में किसान, महिला, गरीब, पिछड़े, शोषित, कमजोर वर्गों के लिए बेहतर काम किए हैं। इसके साथ ही प्रदेश की विकास दर 18 प्रतिशत के करीब रही है । मुख्यमंत्री  ने मध्यप्रदेश के विकास के लिए अभूतपूर्व कार्य किया है। मोहनपुरा सिंचाई परियोजना ना केवल राजगढ़ की बल्कि पूरे मध्यप्रदेश के लिए महत्वपूर्ण योजना है।  शिवराज जी के शासन में 40 लाख हेक्टेयर भूमि सिंचाई परियोजना का लाभ ले रही है।

राज्य सरकार के लक्ष्यों में पूरी मदद करेंगें

उन्होंने कहा कि पिछले 4 वर्षों में सरकार ने कभी भी निराशा या हताशा की बात नहीं कही। सरकार ने हमेशा आशा और विश्वास के साथ आगे बढ़ते हुए हर काम को करने की कोशिश की है। हम हमेशा श्रेष्ठ राष्ट्र के निर्माण में निरंतर प्रयासरत रहेंगे।  वही न तीन नई परियोजनाओं से सिंचाई के साथ 400 गांवों के पेयजल की समस्या का समाधान होगा। बीजेपी सरकार ने मालवा की पुरानी पहचान को लौटाने का प्रयास किया है। बीजेपी से पहले साढे सात लाख हेक्टेयर भूमि पर ही पानी था। राज्य सरकार इसे 2024 तक दोगुना करने पर काम करने की दिशा में काम कर रही ह। मैं विश्वास दिलाता हूं कि जो लक्ष्य राज्य सरकार ने तय किया है उसे समय पर पूरा किया जाएगा और भारत सरकार आपके साथ काम करेगी। मप्र को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई परियोजना से भी मदद दी जा रही है। यहां 14 परियोजनाओं पर काम चल रहा है। 1400 करोड रूपए इस काम के लिए दिए गए हैं।

किसानों की आय दुगुनी करने के प्रय़ास जारी

पीएम मोदी ने कहा कि सरकारी योजनाओं के संदर्भ में मैं नमो एप पर लोगों से बात कर रहा हूं। हाल ही में किसानों से मैंने बात की थी। किसानों ने मुझे अपने अनुभव बताए हैं। न्यू इंडिया के नए सपने में किसानों की महत्वपूर्ण भूमिका है। किसानों की आय को दोगुनी करने के लिए हम प्रयास कर रहे हैं। बीजे से बाजार तक अनेक कदम उठाए जा रहे हैं। पिछले चार सालों में देश भर में 14 करोड स्वैल हेल्थकार्ड बांटे गए हैं। किसानों को आसानी से पता लग रहा है कि उनकी जमीन में कौन सा उर्वरक इस्तेमाल करना है। किसानों को उनकी फसल की उचित कीमत दिलाने के लिए देशभर की मंडियों को आॅनलाइन बाजार से जोडा जा रहा है। मप्र की भी 58 मंडिया जुड चुकी है। वह दिन दूर नहीं जब किसान अपने मोबाइल से ही किसी भी मंडी में फसल बेच सकेगा।

कांग्रेस पर साधा निशाना

पीएम ने कहा कि जो लोग देश में भ्रम फैलाने में लगे हैं, वो किस कदर जमीनी हकीकत से कट चुके हैं, आप लोगों की उपस्थिति इसका प्रमाण है । आज 23 जून देश के महान सपूत डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथी है। 23 जून को कश्मीर में उनकी मौत हुई थी, आज के इस अवसर पर मैं डॉक्टर मुखर्जी का पुण्य स्मरण करता हूं। उनको नमन करता हूं।श्यामा प्रसाद जी कहते थे कि कोई भी देश अपनी ताकत से ही सुरक्षित रह सकता है। उनका देश पर भरोसा था।उनके विचार अपने समय से कहीं आगे के थे।यह हमारे देश का दुर्भाग्य रहा है कि किसी एक परिवार का महिमामंडन करने के लिए देश के कई महान व्यक्तित्वों के बलिदान को अनदेखा कर दिया गया। उन्होंने देश की पहली औद्योगिक नीति बनाई थी।  महिला सशक्तिकरण, परमाणु नीति को दिशा देने के लिए उन्होंने जो विचार रखे वो उस दौर की सोच से भी आगे के थे। देश के विकास में जनभागीदारी के रास्ते सुझाए थे। डॉक्टर मुखर्जी कहते थे कि शासन का पहला कर्तव्य धनहीन, गृहहीन जनता की सेवा और उनके जीवन को बेहतर बनाने का है। यही वजह है कि देश के उद्योग मंत्री बनने से पहले जब वे वित्त मंत्री थे तो उन्होंने व्यापक स्तर पर भूमि सुधार का काम किया था।

बता दे कि मोहनपुरा स्थित बांध करीब 3,800 करोड़ की लागत से बन कर तैयार हुआ है। इसका काम दिसंबर 2014 में शुरू हुआ था। इसमें 17 गेट हैं, जिससे करीब 1.35 लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई होगी। मध्यप्रदेश का राजगढ़ सूखा प्रभावित क्षेत्र है जहां किसान सिंचाई के लिए सिर्फ बारिश के पानी पर निर्भर थे।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...