Breaking News
स्वास्थ्य विभाग में मंत्री का आदेश रद्दी की टोकरी में | मोदी सरकार के 4 साल : बैलगाड़ी, ठेला अैर साइकिल पर सवार होकर कांग्रेस ने मनाया 'विश्वासघात दिवस' | मैं सेवा की ऐसी लकीर खींचूंगा, जिसे मेरे मरने के बाद भी मिटाया न जा सकेगा : शिवराज | पुलिसवाले के दोस्त ने युवतियों से की छेड़छाड़, चप्पलों से हुई पिटाई, खाकी पर उठे सवाल | बैतूल में आज एक और किसान ने की आत्महत्या, सड़क पर शव रख ग्रामीणों ने किया चक्काजाम | MP : मोदी सरकार के चार साल, कांग्रेस मना रही 'विश्वासघात' दिवस | विश्वासघात दिवस : कांग्रेस नेता ने गिनाई मोदी सरकार की 5 नाकामियां | VIDEO : कंटेनर से जा भिड़ा पायलेटिंग वाहन, बाल-बाल बचे स्वास्थ्य मंत्री, 3 पुलिसकर्मी घायल | VIDEO : विधायक ने 'हमसफ़र' को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पहले दिन यात्री दिखें उत्साहित | 6 जून से पहले जिलों में जाकर किसानों को मनाएंगे मुख्यमंत्री  |

ई-अटेन्डेंस के विरोध में उतरे सरकारी कर्मचारी, 2 अप्रैल से हड़ताल पर जाने की दी चेतावनी

रतलाम ।

सरकार द्वारा शुरु किए गए ऑनलाइन अटेंडेंस का विरोध फिर से शुरु हो गया है। मप्र शासन द्वारा एम. शिक्षा मित्र एप के द्वारा मोबाईल के माध्यम से ई अटेंडेंस लगाना सुनिश्चित किया गया है। चुंकी नया शिक्षा सत्र 1 अप्रैल से शुरु होने वाला है।अब इस एप के माध्यम से कर्मचारियों को अपनी उपस्थिति दर्ज करानी होगी। इस एप में ई-अटेंडेंस की तरह बहानेबाजी नहीं चलेगी। शिक्षकों और सरकारी कर्मचारियों  को इस एप पर हाजिरी अनिवार्य लगाना ही पड़ेगी।इस संबंध में सभी को निर्देश दिए गए हैं। जो लापरवाही बरतेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।लेकिन कर्मचारियों ने अब इसका विरोध प्रदर्शन करना शुरु कर दिया है।कर्मचारी विरोध में सड़कों पर उतर आए है। इसी कड़ी में आज रतलाम में कर्मचारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर दोबार उपस्थिति दर्ज कराने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।कर्मचारियों ने सरकार को हड़ताल पर जाने की चेतावनी भी दी है।

 दरअसल रतलाम जिला प्रशासन ने इन दिनों सभी सरकारी कर्मचारियों से अटेंडेंस एप पर, ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करवाने के आदेश जारी किए हैं। जिसके विरोध में आज बुधवार को कर्मचारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर  प्रदर्शन किया। इसके साथ ही कर्मचारियों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकार उनकी मांग नहीं मानेगी तो वे आगामी 2 अप्रैल से हड़ताल पर चले जाएंगे। 

क्या है एम शिक्षा मित्र

 'M-शिक्षा मित्र एप्लीकेशन' (ई-अटेण्डेंस) व्यवस्था के तहत यदि शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारियों ने मोबाइल से हाजिरी नहीं लगाई तो उनकी छुट्टियां और वेतन काट लिया जाएगा। दावा किया जा रहा है कि एप्लीकेशन में इस बार ये खासियत होगी कि जिन शिक्षकों की शिकायत दफ्तरों में धूल खाती रहती हैं, वे शिक्षक यदि M शिक्षा मित्र एप से शिकायत करेंगे तो न सिर्फ उनके शिकायतों की ऑनलाइन मॉनीटरिंग होगी बल्कि निपटारा भी तत्काल होगा।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...