Breaking News
इंदौर : पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर कांग्रेस का अनोखा प्रदर्शन, विरोध में चने चिरौंजी और लॉलीपॉप बांटी | पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी, कहीं ठेले पर बाईक रख जताया विरोध तो कहीं धरने पर बैठे कांग्रेसी | VIDEO : भूरी टेकरी विस्थापन को लेकर निगम की कार्रवाई, कांग्रेस विधायक ने मांगी मोहलत | राहुल गांधी के कार्यक्रम पर प्रशासन की 19 शर्तें, सिर्फ 15 फ़ीट के टेंट में सभा की इजाजत | VIDEO : भोपाल मेयर की सख्त कार्रवाई, नगरनिगम की ट्यूबवेल से हटवाया दबंग का कब्जा | कमलनाथ ने कार्यकर्ताओं को दिए निर्देश, मंडी में किसानों के साथ मिल सरकार के खिलाफ करें प्रदर्शन | प्रधानमंत्री योजना का आवास ना मिलने पर ग्रामीण ने खाया जहर, सरपंच-सचिव पर लगाया रिश्वत मांगने का आरोप | फेसबुक पर कलेक्टर को जान से मारने की धमकी, गृहमंत्री और सांसद पर भी आपत्तिजनक पोस्ट | 23 करोड़ का आईएएस.. | कांग्रेस प्रदेश कार्यसमिति का गठन, 20 जिला अध्यक्षों की घोषणा, दिग्विजय को अहम जिम्मेदारी |

रतलाम राशन घोटाला : फर्जी परिवार बन ले रहे थे राशन माफिया, अब कटेगा लिस्ट से नाम

रतलाम

मध्यप्रदेश के रतलाम में हुए राशन घोटाले को लेकर बड़ी कार्रवाई की गई है। घोटाले के खुलासे के बाद  23 हजार फर्जी राशनधारक पाए गए है, जिनका नाम अब राशन लेने वालों की लिस्ट से हटाया जाएगा। इसके साथ ही उन पर कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।जांच में सामने आया है कि इन फर्जी राशनधारकों के नाम पर माफियाओं द्वारा सरकार को करोड़ों का नुकसान पहुंचाया गया है। हालांकि इस मामले में पहले ही 8  लोगों पर मामला दर्ज किया जा चुका है।

जानकारी के अनुसार, साल 2016  में रतलाम जिले में  करीब 9 करोड़ रुपए का घोटाला सामने आया था, जिसमें जनवरी 2018 में जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी आर.सी.जांगडे सहित 8 राशन दुकान संचालकों पर मामला दर्ज किया गया था।इसी कड़ी में अब उन लोगों पर कार्रवाई शुरु की गई है, जिन्होंने नगर निगम की मजदूर डायरियों मे अपना नाम फर्जी तरीके से जोड़कर करोड़ों रुपए गबन किए और सरकार को करोड़ों का नुकसान पहुंचाया।अब खुलासे के बाद 23 हजार फर्जी परिवारों के नाम राशन लेने वालों की लिस्ट से काटे जाएंगे। जिसकी कार्रवाई शुरू हो चुकी है।प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि 23 हजार परिवारों में अकेले रतलाम शहर के 21 हजार फर्जी परिवार शामिल है। इन फर्जी परिवारों को अलग-अलग 25 कैटेगरी में बांट कर राशन दिया जाता था। हर माह 80 हजार फर्जी लोगों का अनाज राशन माफिया लेकर कालाबाजारी कर रहे थे।

बता दे कि इस बहुचर्चित घोटाले का खुलासा तात्कालिक कलेक्टर बी.चंद्रशेखर ने 2016 में किया था।उन्हें इस मामले में जनसुनवाई मे लगातार शिकायते मिल रही थी, जिसके बाद उन्होंने रिकार्ड खंगाला तो पूरा घोटाला सामने आ गया। सरकारी दुकानों से राशन लेने वालों को जब आधार कार्ड को ट्रिपल एसएमआई से जोड़ा गया। थंब इम्प्रैशन से दुकानों पर अनाज दिया जाने लगा, तो फर्जी राशन वाले दुकानों तक पहुंचे ही नहीं। जिसके बाद इस  राशन घोटाले की असलियत सामने आई।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...