VIDEO: यहां 'आग की होली' खेलते हैं लोग..! लपटों के बीच से निकलते हैं पंडे

होली विशेष: परम्पराओं के देश भारत में होली का त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है| होली भारत के सबसे बड़े और सबसे लोकप्रिय उत्सवों में से एक है, जिसमे आनंद और रोमांच का भरपूर नजारा देखने को मिलता है, पारंपरिक रूप से, होली बुराई पर अच्छाई की जीत दर्शाने के लिए मनाई जाती है। इसे होलिका की कथा सहित, कई कथाओं से भी जोड़ा जाता है। लेकिन भारत में कई जगह होली मनाने की अलग ही तरह की परम्पराएं हैं, जो सदियों से जीवित हैं और आज भी निभाई जाती हैं| आज के आधुनिक समय में कुछ ऐसी परम्पराएं भी लोग निभा रहे हैं, जिन्हे देखने के लिए भारी हुजूम उमड़ता है| वहीं दिल दहला देने वाले इस नज़ारे को देखकर हर कोई दंग रह जाता है| 

उत्तरप्रदेश के मथुरा में अनोखी होली का नजारा देखने को मिलता है, ब्रज की होलियों में बरसाना, नन्दगांव की लठामार होलियां विश्वर में चर्चित हैं और हर कोई यहां होली खेलना चाहता है| लेकिन मथुरा के पास छाता तहसील में स्थित गांव जटवारी एवं फालैन गांव की होली दिल दहला देने वाली होती है, जिसे देखकर दर्शक भी सिहर उठते हैं |  यहां होली की आग से होकर अलग-अलग समय में दो पंडे निकलते हैं| फालेन गांव और जटवारी गांव में होली की आग से पंडे के निकलने की परंपरा डेढ़ शताब्दी से अधिक पुरानी है|  जब पंडा आग की ऊंची उंच लपटों से होकर निकलते हैं तो आग भी उनका कुछ नहीं कर पाती| यह दृश्य देखकर हर कोई हैरान रह जाता है| कहा जाता है भारत की धरती चमत्कारिक है, यहां कदम कदम पर चमत्कार देखने को मिलते हैं| उन्ही में से यह एक परंपरा है, जो यहाँ के लोग सदियों से निभाते आ रहे हैं|  इस बार होलिका के धधकते अंगारों पर चलकर पंडा बाबूलाल निकलेगा। गुरुवार को रात आठ बजे होलिक दहन किया जाएगा। बता दें, पिछले बार होलिका दहन चार बजे किया गया था।फालैन पंडा मेला आचार्य पंडित भगवान सहाय एवं गांव के पंचों ने इस बात की घोषणा बुधवार को की। 

यहां होली की आग से पंडे के निकलने की परंपरा डेढ़ शताब्दी से अधिक पुरानी है| इन गांवों में प्रहलाद मंदिर है जहां पर पंडे आराधना करते हैं और होली की आग से निकलने से पहले पास के प्रहलाद कुंड में स्नान करते हैं| इन दोनों गांवों के पंडे माला लेने के बाद मंदिर में हर समय पूजा आराधना करते हैं और मंदिर में ही फर्श पर सोते हैं| होलाष्टक लगने के बाद पंडे अन्न का परित्याग कर केवल दूध और फल ही ग्रहण करते हैं| 

दोनों ही गांवों में होली मनाने का अलग अलग तरीका है। दोनों ही गांवों की होली की आग से पंडे के निकलने की परंपरा डेढ़ शताब्दी से अधिक पुरानी है। दोनों ही गांवों में वसंत पंचमी को पंचायत कर यह निर्धारण किया जाता है कि इस बार होली से होकर कौन पंडा निकलेगा। जो युवक स्वत: निकलने के लिए कहता है वह मंदिर में रखी माला को उठा लेता है। दोनों ही गावों में प्रहलाद का मंदिर हैं जहां पर पंडे आराधना करते है तथा होली की आग से निकलने के पहले पास के प्रहलाद कुंड में स्नान करने के बाद ही होली की आग से निकलते हैं। होली की शाम से पंडा प्रहलाद मंदिर के सामने हवन करने लगता है तथा पास रखे दीपक की लौ के ऊपर अपना हाथ रखकर उसकी गर्मी का अंदाजा करता है। जब उसे यह लौ शीतल महसूस होने लगती है तो उसे बहुत अधिक ठंड लगने लगती है। इसी समय वह होली में आग लगाने का निर्देश देकर स्वयं पास के प्रहलाद कुंड में स्नान के लिए जाता है तथा उसकी बहन उसके होली तक आने के मार्ग पर करूए से पानी डालती है और फिर पलक झपकते ही यह पंडा होली की गगनचुम्बी लपटों से होकर निकल जाता है। सामान्यतया होली की लपटों से निकलने वाले पण्डे अविवाहित ही होते हैं। इस दौरान गांव के लोग लाठी लेकर पण्डे को आग से निकलने के पहले और बाद में घेर लेते हैं।  फालेन की होली में आग लगने का समय आखिरी वक्त पर पंडा ही निर्धारित करता है। यहां के गांव की होली किसी दैवीय चमत्कार से कम नही है।