भाजपा विधायक का आरोप, मेरे पति का हो सकता है फर्जी एनकाउंटर

रीवा/भोपाल। रीवा जिले के सेमरिया से भाजपा विधायक नीलम मिश्रा ने रेंज आईजी उमेश जोगा को पत्र लिखकर आरोप लगाए हैं कि  रीवा एसपी स्थानीय मंत्री के दबाव में काम कर रहे हैं, मेरे पति का कभी भी फर्जी एनकाउंटर हो सकता है।  एसपी को समझाएं कि वह मंत्री की चापलूसी बंद करें। मंत्री ने स्थानीय प्रशासन के दबाव में खुद के जान-माल के नुकसान ही संभावना जताई है। 

भाजपा विधायक ने आईजी को सौंपे ज्ञापन में सेमरिया विधानसभा में बढ़ते अपराध को लेकर पुलिस की कार्यप्रणाली पर आरोप लगाए हैं। उन्होंने स्थानीय विधायक के दबाव में प्रशासन द्वारा उनके खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है। साथ ही खुद के विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य नहीं होने के लिए स्थानीय मंत्री को जिम्मेदारी ठहराया है। नीलम मिश्रा ने स्थानीय विधायक से अपने परिवार पर जान का खतरा होना बताया है। उनके पति का कभी भी फेक एनकाउंटर किया जा सकता है इसलिए वे सुरक्षा की मांग करती हैं । इस संबंध में उन्होंने आज रीवा में प्रेसवार्ता भी की। 


मिश्रा को गिरफ्तारी से बचाने की कवायद

नीलम मिश्रा द्वारा पुलिस पर आरोप लगाए जाने की असल वजह अपने पति अभय मिश्रा को गिरफ्तारी से बचाना है। पिछले दिनों सेमरिया थाना क्षेत्र के अकौनी गांव में युवक के हत्या आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर नेताओं ने सेमरिया थाना प्रभारी के साथ छीनाझपटी की गई थी, जिसमें पुलिस ने जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा सहित कांग्रेस शहर अध्यक्ष मंगू समेत कई कांग्रेसी एवं बसपा नेताओं पर मामला दर्ज किया था। इस मामले में पुलिस अभय मिश्रा की गिरफ्तारी में जुटी है। 


कांग्रेस में हो चुके हैं शामिल, नीलम का कटेगा टिकट

विधायक नीलम मिश्रा के पति अभय मिश्रा दो डेढ़ महीने पहले कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। वे पिछले दो साल से प्रदेश भर में त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों के साथ सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे थे। अभय मिश्रा के कांग्रेस ज्वाइन करने के बाद अब उनकी पत्नी नीलम मिश्रा भी मुखर होेने लगी हैं। ऐसे में इस बात की प्रवल संभावना है कि भाजपा अगले चुनाव में नीलम मिश्रा का टिकट काटेगी। उल्लेखनीय है कि नीलम मिश्रा ने पिछले साल रीवा के तत्कालीन कलेक्टर राहुल जैन पर 200 करोड़ का खनन घोटाले का आरोप लगाया था। इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से की थी। तब से नीलम भाजपा के निशाने पर हैं। 


ज्ञापन आया है, उसका परीक्षण करा रहे हैं। जहां तक पुलिस पर आरोप और अपराध बढ़ने की बात है तो रीवा रेंज में पिछले 3 साल से तुलनात्मक रूप से अपराध कम हैं। कोई अपराधी कितना भी बड़ा क्यों न हो छोड़ा नहीं जाएगा। हमारा काम जनता की सेवा करना है, जनता को कोई परेशानी नहीं होना चाहिए। जनता ने कभी ऐसे आरोप नहीं लगाए। 

उमेश जोगा, आईजी, रीवा जोन