अब तक कई जिलों में खपा चुका करोड़ों के नकली नोट, शराब ठेकों और पेट्रोल पम्पों पर होती थी सप्लाई

रीवा

मध्यप्रदेश के रीवा जिले में  एसटीएफ पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए फर्जी नोट बनाने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से पुलिस ने  100-100 रुपए के फर्जी नोट, नकली नोट के कागज और स्कैनर बरामद किया है। नोटों की कीमत 90 हजार बताई जा रही है। इस कार्रवाई को जबलपुर की एसटीएफ टीम ने अंजाम दिया है।आरोपी का नाम प्रदीप कुमार सोनी है, जो रीवा के जेपी नगर का निवासी है। बताया जा रहा है कि प्रदीप ये काम पिछले कई सालों से कर रहा था और अब तक कई करोड़ नकली नोट रीवा,कटनी और सतना मे खपा चुका है।एसटीएफ के एसपी कमलेश खरपुशे के निर्देश पर टीम ने जब कटनी एवं सतना में भी छानबीन शुरू की तो अनेक लोग वहां से भाग निकले। फिलहाल बाकी के गिरोह की तलाश जारी है।

जानकारी के अनुसार, आरोपी का नाम प्रदीप कुमार सोनी है, जो रीवा के जेपी नगर का निवासी है। मुखबिर की सूचना पर जबलपुर एसटीएफ टीम ने प्रदीप के घर छापा मारा और उसके घर से 90 हजार रुपए के नकली नोट , स्कैनर एवं नकली नोट बनाने का सामान भी बरामद किया है।बताया जा रहा है कि प्रदीप ये काम पिछले कई सालों से कर रहा था और अब तक कई करोड़ नकली नोट रीवा,कटनी और सतना मे खपा चुका है। प्रदीप और उसके गिरोह में शामिल लोगों नोट बनाने के लिए बेहतर क्वालिटि के कागज का इस्तेमाल करते थे, नोट देखकर कोई भी भ्रमित हो सकता है कि नोट नकली नही है। प्रदीप पिछले दो सालों से आसपास के जिलों में नकली नोटों की सप्लाई कर रहा है। उसके द्वारा शराब के अड्डों व पेट्रोल पम्पों के जरिए नकली नोटों की सप्लाई की जा रही थी। इन अड्डों पर 40 रुपए के असली नोट के बदले 100 रुपए का नोट सप्लाई किया जाता था। इसमें कई और लोगों के शामिल होने की भी आशंका है, जिनकी तलाश पुलिस कर रही है। जल्द ही इससे जुड़े गिरोह का पर्दाफाश किया जाएगा।