लोकायुक्त की कार्रवाई, रिश्वत लेते रंगेहाथों धराया नायब तहसीलदार

रीवा। मध्य प्रदेश के रीवा जिले में नायब तहसीलदार और बाबू को लोकायुक्त पुलिस ने रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया है| भ्रष्टाचार का केंद्र बन चुके कलेक्टर ऑफिस में करीब एक वर्ष के भीतर चार बार लोकायुक्त की टीम ने रंगेहाथों रिश्वतखोर अधिकारी कर्मचारी को पकड़ा है| आज एक बार फिर कार्रवाई करते हुए लोकायुक्त ने यह कार्रवाई की|  तहसील में चल रहे एक प्रकरण में आदेश जारी करने के बदले रिश्वत की मांग की जा रही थी, जिसकी शिकायत फरियादी ने लोकायुक्त में की थी|  

जानकारी के मुताबिक सोमवार को कलेक्ट्रेट कार्यालय परिसर में हुजूर तहसील के बनकुइयां सर्किल के नायब तहसीलदार शारदा प्रसाद मिश्रा एवं बाबू शिवानंद पांडेय को चार हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तहसील में चल रहे एक प्रकरण में आदेश जारी करने के बदले रिश्वत की मांग की जा रही थी, जिसकी शिकायत प्रकाश कुमार तिवारी निवासी सोनौरी ने लोकायुक्त कार्यालय में दर्ज कराई| शिकायतकर्ता ने बताया कि गांव में उसके मकान के निर्माण पर सरपंच ने रोक लगवा दी और नायब तहसीलदार के यहां बेदखली का आवेदन भी लगवा दिया। इस प्रकरण में शिकायतकर्ता के पक्ष में फैसला हुआ। जिसमें आठ हजार रुपए नायब तहसीलदार और बाबू पहले ही ले चुके थे। अब उसी प्रकरण में आदेश जारी करने के बदले 10 हजार की मांग की जा रही थी। बाद में समझौते के तहत चार हजार में बात तय हुई थी।  शिकायतकर्ता की शिकायत की जांच के बाद लोकायुक्त एसपी ने टीम गठित कर कार्रवाई के लिए भेजा। सोमवार को जैसे ही नायब तहसीलदार शारदा प्रसाद मिश्रा एवं बाबू शिवानंद पांडेय ने चार हजार रुपए की रिश्वत ली, लोकायुक्त की टीम ने दोनों को रिश्वत के साथ गिरफ्तार कर लिया। 

लोकायुक्त की कार्रवाई के बाद हड़कंप मच गया| लोकायुक्त टीम के साथ मौजूद सशस्त्र बल ने भीड़ को दूर किया। आरोपी नायब तहसीलदार और बाबू के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 की धारा 7, 13(1)डी एवं 13(2) दो के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। इस कार्रवाई में लोकायुक्त की ओर से डीएसपी देवेश पाठक, निरीक्षक हितेन्द्रनाथ शर्मा, सुरेन्द्र मिश्रा, विवेक पांडेय, शैलेन्द्र मिश्रा सहित अन्य मौजूद रहे।

"To get the latest news update download tha app"