Breaking News
जब मध्य प्रदेश की मंत्री को महंगा पड़ा था अंबानी का विरोध | MP: कांग्रेस-बसपा गठबंधन की संभावना बरकरार, हो सकता है गुप्त समझौता | SC-ST एक्ट पर BJP में फूट: शिवराज के ऐलान से नाराज उदित राज, दे डाली यह नसीहत | दर्दनाक हादसा: दो कारों की भिड़ंत में जनपद सीईओ समेत 4 लोगों की मौत | कैसे पूरी होगी शिवराज की यह घोषणा | कांग्रेस की उम्मीदों पर फिर पानी, बसपा ने जारी की प्रत्याशियों की पहली सूची | डंपर काण्ड: CM के खिलाफ याचिका खारिज, SC ने कहा-'चुनाव लड़ना है तो मैदान में लड़ें, कोर्ट में नहीं' | बीजेपी विधायक का आरोप, सवर्ण आंदोलन के लिए हो रही विदेशी फंडिंग | व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! |

VIDEO : भाजपा सांसद का विवादित बयान - जलसंकट की समस्या मेरा बाप भी नही सुलझा सकता

सागर

हमेशा से विवादित व बेबाक बयानों को लेकर पार्टी की किरकिरी करने वाले सागर लोकसभा सांसद ने एक बार फिर बयान देकर पार्टी और जनता को सकते में डाल दिया है। बीजेपी सांसद लक्ष्मी नारायण यादव से जब जलसंकट को लेकर सवाल किया गया तो वे भड़क गए और कहने लगे कि  जब 40 साल से पानी की समस्या से जूझ रहे हो तो 4 से 6 माह में क्या बिगड़ जाएगा। क्या घर घर पानी का गिलास लेकर जाएं।

दरअसल , सागर सांसद लक्ष्मीनारायण यादव  जिले के जैसीनगर कस्बे में आयोजित प्रधानमंत्री उज्ज्वल गेस कनेक्शन योजना के तहत गैस चूल्हा वितरण करने पहुँचे थे। यहां लोगों द्वारा कस्बे में  पानी के संकट की समस्या पर सवाल पूछा तो वे आग बबूला हो गए और उन्होंने साफ तौर पर कह दिया कि सरकार ने पर्याप्त व्यवस्था की है । अब क्या गिलास में भर कर भी हम पानी दे । 

सासंद यही नही रुके आगे उन्होंने कहा कि जब 40 साल से यह संकट सह रहे हो तो चार पांच माह में क्या बिगड़ जाएगा ।आपकी समस्या को मैं क्या मेरे पिताजी भी हल नही कर सकते । उन्होंने यह तक कह दिया कि नल-जल योजना का काम चल रहा है। क्या जनता चार पांच महीने इंतजार नहीं कर सकती। 

बता दे कि मध्यप्रदेश के बुन्देलखंड इलाके में कई दशकों से जलसंकट बना हुआ है। कई सरकारें आईं लेकिन जनता को अब तक इस समस्या से निजात नहीं मिला है।पानी की मारी जनता जनप्रतिनिधियों तक अपनी आवाज पहुंचाने की कोशिश भी करती है. लेकिन कई बार उन्हें सिर्फ निराशा ही हाथ लगती है।



  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...