ब्लैक लिस्टेड प्रोफेसर का MPPSC में सिलेक्शन, जूनियर्स से जंचवाई थी सीनियर्स की कॉपियां

सागर।

बीते दिनों परीक्षा होने के बाद सागर के शासकीय आर्ट्‌स एंड कॉमर्स कॉलेज प्रबंधन को बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल की कॉपियां जांचने की जिम्मेदारी दी गई थी, जिसमें सामने आया था कि प्रबंधन ने फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट से कॉपियां चेक करवाई है। मामले को गंभीरता से लेते हुए बीयू ने ठेके पर छात्रों से कापियां जंचवाने वाले प्रोफेसर डॉक्टर धनीराम अहिरवार को ब्लैक लिस्टेड कर दिया था। वहीं विवि प्रशासन ने पूरे मामले की जांच के लिए एक तीन सदस्यीय जांच कमेटी गठित की थी और रिपोर्ट सौंपने को कहा था।लेकिन महिना बीत जाने के बावजूद अब तक कोई रिपोर्ट नही सौंपी गई है। बताया जा रहा है कि समिति को भंग कर दिया गया है और  लोकपाल की ओर से जांच पूरी होने पर रिपोर्ट बीयू प्रबंधन को ही सौंपी जाएगी।

इसी बीच खबर है कि आरोपी धनीराम अहिरवार का चयन असिस्टेंट प्रोफेसर के पद के लिए हो गया है। मप्र लोक सेवा आयोग ने हाल ही में जारी किए रिजल्ट में हिन्दी विषय की मुख्य सूची में 46वें नम्बर पर आरोपित शिक्षक डॉ. धनीराम अहिरवार का नाम शामिल है।इससे पहले धनीराम  नेट क्वालिफाइड कर चुका है। ऐसी स्थिति में जांच रिपोर्ट न आने से डॉ. धनीराम की नियुक्ति को लेकर भी सवाल उठने लगे हैं।वही छात्र संगठन ने भी धनीराम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने आरोपित शिक्षक को अतिथि विद्वान पद से हटाने की मांग की है।हालांकि फिलहाल इस मामले में कुछ नही कहा जा सकता। अब उच्च शिक्षा विभाग ने फैसला लेगा कि आरोपित डॉक्टर धनीराम का क्या करना है।