इस सीट पर बगैर प्रत्याशी के बीजेपी का प्रचार शुरू, चर्चाओं का बाजार गर्म

सागर। विनोद जैन।

मध्यप्रदेश के सागर जिले की सुरखी विधानसभा पर कई दावेदार सामने आ रहे हैं। यहां से बीजेपी की पारुल साहु केसरी विधायक हैं। लेकिन इस बार कयास लगाए जा रहे हैं कि इस सीट पर मौजूदा गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह चुनाव लड़ सकते हैं।  हालांकि अटकलों का दौर जारी है जब लोग भाजपा कार्यकर्ताओं से पूछते हैं कि टिकिट किसको मिला तो यही जवाब देते हैं कि कमल के फूल को लेकिन भाजपा कार्यकर्ता कुछ भी कहें लेकिन इस बार के विधानसभा चुनाव में खासतौर पर प्रत्याशी का चेहरा मायने रख रहा है।

एक तरफ चर्चा है कि प्रदेश के गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह यहां से चुनाव लड़ सकते हैं, क्योंकि यहां से वो पहले दस साल विधायक रहे हैं। भूपेंद्र सिंह फिलहाल खुरई विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। अब कयास यह लगाए जा रहे हैं कि एक बार फिर भूपेंद्र सिंह सुरखी विधानसभा में लौट सकते हैं, उनके खास समर्थक भी यही चाहते हैं क्योंकि भूपेन्द्र सिंह का कद और पद बढ़ने से उनको फायदा होगा। 

सूत्रों के मुताबिक जिले की सुरखी में वर्तमान विधायक पारुल साहु केसरी की रिपोर्ट कुछ खास नहीं है। स्थानीय लोगों में उनके खिलाफ नाराजगी है। ऐसे में उन्हें विरोध का सामना भी करना पड़ सकता है। पारुल को जिताने के लिए पिछले चुनाव में उनके परिवार ने ऐड़ी चोटी का जोर लगा दिया था। लेकिन वह जनता का विश्वास हासिल करने में नाकाम साबित होती दिखाई दे रही हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि पिछले चुनाव के बाद से विधायक इलाके में बहुत कम सक्रिय रही हैं। ऐसे में लोग अब बदलाव चाहते हैं। हालांकि, अभी यहां लोगों में मिलीजुली राय है। 

वहीं, इस सीट से राजकुमार धनौरा का नाम भी रेस में शामिल है। सूत्रों के मुताबिक जिनको पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ताओं को छोड़कर आम जनता नहीं जानती और पहले से नये चेहरे के चक्कर में ठगी जनता बिलकुल पसंद नहीं कर रही पारूल साहू अपने विकास के मामले में उपलब्धियों में बडे़ बडे़ तालाब तो गिनवातीं है। जिनसे किसानों को लाभ तो पहुंचा है लेकिन रहवासी इलाकों में जनता आज भी पीने के पानी को तरस रही है। इसके अलावा भी और कोई सक्षम प्रत्याशी दूर दूर तक नजर नहीं आ रहा है अब देखना बाकी है कि भाजपा के पास कोई हुकम का इक्का बाकी है जिसमें कोई चमत्कार हो सके वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के गोविद सिंह राजपूत के पास भी कोई खास मुद्दा नहीं है जिससे इन मुद्दों से हटकर विपक्षी को घेर सकें।

"To get the latest news update download tha app"