Breaking News
अब मंत्री-परिषद के सदस्य उतरेंगें सड़कों पर, जनता को समझाएंगे 'सड़क सुरक्षा' के नियम | 28 सितंबर को फिर भारत बंद का ऐलान, इसके पीछे ये है वजह | 12वीं पास के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, जल्द करें अप्लाई | शर्मनाक : युवक की हत्या के शक में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया, पथराव-आगजनी, 8 पुलिसकर्मी सस्पेंड | शिवराज कैबिनेट की बैठक खत्म, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | मॉर्निंग वॉक के दौरान EOW इंस्पेक्टर की मौत, हार्ट अटैक की आशंका | अखिलेश की नजर अब मप्र पर, 3 सितंबर को आएंगें इंदौर | अटल जी के निधन पर पूरे देश में शोक और भाजपा नेता निकाल रहे डीजे यात्रा : कांग्रेस | VIDEO : मोबाईल टॉवर पर चढ़ा शराबी, मचा रहा हंगामा, नीचे उतारने में जुटी पुलिस | चुनावी साल में शिवराज सरकार का मास्टर स्ट्रोक, कुपोषण मिटाने खर्च करेगी 57 हजार करोड़ |

CM के गृह जिले बच्चों की जान से खिलवाड़, बांटे गए एक्सपायरी डेट के दूध के पैकेट

सीहोर। 

मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में शासकीय स्कूलों के बच्चों को एक्सपायारी डेट का दूध पिलाए जाने का मामला सामने आया है।मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का विधानसभा क्षेत्र नसरुल्लागंज जनपद पंचायत का है।यहां शासकीय प्रथामिक शाला सिंहपुर में बच्चों को एक्सपायर हो चुका दूध पिलाया जा रहा है। हालांकि शाला प्रभारी ने एक्सपायर डेट देखकर इसे बच्चों को नहीं दिया।उन्होंने कहा कि जनशिक्षा केंद्र को इस बारे में सूचना दी जाएगी। वहीं अब दूध के पैकेट एक्सपायर होने पर घोटाले की भी आशंका व्यक्त की जा रही है।

दरअसल, प्राथमिक स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को सरकार की योजना के अनुसार सप्ताह में 3 दिन पीने के लिए दूध दिया जाता है। लेकिन, मुख्यमंत्री के ही विधानसभा क्षेत्र के संकुल लाड़कुई में आने वाले सिंहपुर प्राथमिक स्कूल में बड़ी लापरवाही देखने को मिली, जहां लापरवाह अधिकारियों ने एक्सापायरी डेट वाले दूध के पैकेट ही स्कूल में बच्चों को बांटने के लिए भेज दिए। हालांकि शाला प्रभारी ने एक्सपायर डेट देख ली और इसे बच्चों को देने से रोक दिया। पैकेट्स पर 4 जून 2018 एक्सपायरी डेट अंकित थी। स्कूल में करीब 86 बच्चे हैं, लेकिन हर माह केवल सात से आठ पैकेट मिल्क पाउडर देकर प्रशासन खानापूर्ती कर रहा है। मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र में जब अनियमितताओं का यह आलम है तो पूरे प्रदेश की स्थिति के बारे मे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। इससे दूध वितरण की कार्य प्रणाली पर सवाल खड़े हो गए हैं।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...