हरा भरा नेकी का पेड़ सूखने की कगार पर पहुंचा

सीहोर|अनुराग शर्मा | सरकार ने आनंद मंत्रलय के माध्यम से नेकी के पेड़ की शुरुवात की जिसके माध्यम से जरूरत मंद लोगो के सपने साकार होने लगे नेकी के पेड़ के माध्यम से जनता अपनी जरूरत से अधिक की वस्तु को जरूरत व्यक्तियों तक पहुचने लगी ओर जरूरत मंद व्यक्ति की जरूरत का समान पाकर नेकी के पेड़ से हसि खुसी अपने घर जाने लगा देखते ही देखते नेकी का पेड़ फलने फूलने लगा पूर्व sdm राजकुमार खत्री के प्रयासों के फलस्वरूप इस पेड़ के माध्यम से 20 से अधिक गरीब कन्याओ की शादी सम्पन हुई जिसमें नगर के दानदाताओ ने दिल खोलकर मदद की वही 10 वी ओर 12 वी के छात्रों को निःशुक कोचिंग दी गई इस पेड़ के माध्यम से कई बेरोजगारों को रोजगार बीमारों को उपचार गरीब विद्यर्थियों को कॉपी किताब व अन्य शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराई गई तो कई गरीबो को कपड़े बर्तन भी उपलब्ध कराए गए पर 3 माह से इस नेकी के पेड़ को ग्रहण लग गया इस पेड़ को हरा भरा रखने वाले ओर गरीब बेसहारा को सहारा देने वाले sdm राजकुमार खत्री का तबादला भोपाल हो गया और तब से नेकी का पेड़ धीरे धीरे सूखने लगे जब से sdm राजकुमार खत्री का तबादला हुआ तब से इस पेड़ के नीचे सन्नटा छा गया सभी गतिविधियां बंद हो गई गरीबो का सपना जो पहले हकीकत में तब्दील होता था टूटने लगा वर्तमान sdm  तरुण अवस्थी द्वरा इस पेड़ को नजर अन्दाज किया इसका प्रमुख कारण है जब सेsdm अवस्थी ने कार्यभार संभाला है नेकी के पेड़ तरफ कोई ध्यान नही दिया जिसके चलते  जरूरतमंद लोगो की आस इस पेड़ से खत्म होने लगी