Breaking News
अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग |

शिवराज सरकार ने उड़ाया PM के लाईव कार्यक्रम का मजाक, नपा कर्मचारी को हितग्राही बनाकर करवाई बात

भोपाल/सीहोर।

शनिवार को पीएम मोदी एक दिवसीय मध्यप्रदेश दौर पर रहे, इस दौरान उन्होंने कई योजनाओं का लोकापर्ण और शिलान्यास किया ।इंदौर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान सीहोर जिले की दो महत्वपूर्ण विकास योजना का ई-लोकापर्ण किया।वही  पीएम के लाईव कार्यक्रम का शिवराज सरकार द्वारा मजाक उड़ाया गया।यहां प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाभांवित होने वाली सीहोर के वार्ड 29 की हितग्राही रेखा बोहत ने प्रधानमंत्री से सीधे चर्चा कर योजना के तहत लाभांवित होने पर धन्यवाद दिया।लेकिन वास्तविकता तो ये है कि रेखा हितग्राही है ही नही औऱ ना ही सीवेज का काम अब तक पूरा हो पाया है।

       दरअसल, कार्यक्रम में हितग्राही बन रेखा बोयत ने सीधे प्रसारण में पीएम मोदी से कहा कि प्रधानमंत्री जी, हमारा शहर स्वच्छ और सुंदर हुआ है। गंदगी से मुक्ति मिली है। आवास पाकर मैं काफी खुश हूं। इसके लिए मैं आपको और मुख्यमंत्री को धन्यवाद देती हूं।सीवेज योजना का लाभ मिला है। इससे अब शहर साफ-सुंदर दिखाई देने लगा है। लेकिन सच्चाई तो ये है कि अभी सीवेज का काम पूरा ही नही हुआ है, अभी भी कई घरों के कनेक्शन होना बाकी हैं। 

इतना ही नही जिस महिला ने हितग्राही बन पीएम मोदी से बात की वह असल में नपा की अस्थायी कर्मचारी है। उन्हें ना तो कोई इस योजना का लाभ मिला है और ना ही दो साल बीत जाने के बावजूद सीवेज का काम पूरा हो पाया है। वही जब इस मामले में अधिकारियों से बातचीत की गई तो उनका कहना था कि रेखा बोयत एक गरीब महिला है। वह नपा में मस्टर पर अस्थाई रूप से काम कर अपना जीवनयापन करती है। इन्हें अर्हताएं पूर्ण करने के कारण प्रधानमंत्री आवास का लाभ मिला। सीवेज इनके घर से मात्र तीन घर दूर है। इसलिए सीवेज चालू होने से इन्हें उसका भी लाभ मिला। सीवेज का लाभ पूरे शहर को मिलना है।  वास्तव में रेखा का चयन बोलने के लिए हुआ था। चूंकि ये अनुसूचित के साथ साथ विधवा भी हैं इसलिए भोपाल के अधिकारियों ने भी इन्हें उचित माना औऱ पीएम मोदी से हितग्राही बनाकर बता करवा दी।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...