कमलनाथ पर शिवराज का पलटवार- हां, मैं मदारी हूं, डमरू बजाता हूं तो बिजली बिल जीरो हो जाता है

सीहोर।

एमपी में चुनावी माहौल तेजी पकड़ रहा है। अब बिजली के बिल पर सियासत तेज हो रही है।एक तरफ भाजपा ने संबल योजना के तहत लोगों के बिजली बिल माफ कर सस्ती बिजली देना शुरु कर दिया है वही कांग्रेस सत्ता में आने के बाद पूरा बिजली बिल माफ करने की बात कर रही है। इसी कड़ी में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मदारी वाले बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि 'हां, मैं मदारी हूं। मैं ऐसा मदारी हूं, जो डबरू बजाता है तो बिजली बिल जीरो हो जाता है। मैं मदारी हूं, जो गरीबों के लिए घर बनाता है।जो बच्चों की फीस भरता है। 

दरअसल, शनिवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कमलनाथ ने प्रदेश भर में आयोजित हुए स्व रोजगार सम्मलेन को लेकर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री मदारी की तरह ऐलान करते जा रहे हैं, सरकार सिर्फ कलाकारी की राजनीति करती है।वही उन्होंने बिजली बिल को माफ करने को लेकर कहा था कि चौहान को एक साल नहीं बल्कि 14 साल का गरीबों का बिजली बिल माफ करना चाहिए। जिस पर सीएम ने पलटवार करते हुए कहा कि  हां, मैं मदारी हूं। मैं ऐसा मदारी हूं, जो डबरू बजाता है तो बिजली बिल जीरो हो जाता है। मैं मदारी हूं, जो गरीबों के लिए घर बनाता है। बच्चों की फीस भरता है। मैं वह इंसान हूं, जो मध्य प्रदेश का विकास चाहता हूं। यह बात उन्होंने शनिवार को बुदनी में आयोजित स्वरोजगार मेले के दौरान संभा को संबोधित करते हुए कही।

शिवराज यही नही रुके उन्होंने आगे कहा कि मैं गरीबों के लिए काम कर रहा हूं तो कांग्रेस मुझे मदारी कर रही है।हां मै मदारी हूं जिसके डबरु से संबल जैसी योजना निकलती है। गरीबों को उनका हक दिलाता हूं। ऐसा मदारी हूं तो प्रदेश को समृद्ध बनाना चाहता हूं। कांग्रेस ने तो इसे बीमारू बनाकर छोड़ा था। मैंने इस बीमारू राज्‍य को पहले विकासशील बनाया। अब यह एक विकसित राज्‍य है। मध्‍य प्रदेश के लोग अब बेचारे नहीं हैं।