जहर खाकर किसान ने की आत्महत्या, तीन लाख का था कर्ज

शाजापुर| प्रदेश में मौसम की मार और कर्ज का बोझ किसानों के लिए आफत बन चुका है, चुनावी साल को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों के लिए लुभावनी घोषणाएं भी की है, लेकिन किसानों को कर्ज से राहत नहीं मिल पाई है| प्रदेश में किसान आत्महत्याओं का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है| एक और किसान ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली है| 

प्राप्त जानकारी के अनुसार शाजापुर जिले के गांव खड़ी निवासी किसान पूरणलाल ने आत्महत्या कर ली। किसान पर तीन लाख से अधिक का कर्ज था। गुरुवार सुबह किसान ने जहरीला पदार्थ खाकर लिया|  गंभीर अवस्था में किसान को जिला अस्पताल लाया गया। करीब साढ़े 4 घंटे तक इलाज करने के बाद उसे शाजापुर से इंदौर रैफर कर दिया गया लेकिन एम्बुलेंस 2 घंटे तक नहीं आई। इससे किसान की मौत हो गई। परिजनों का कहना है कि करीब दो घंटे तक इंतजार करने के बावजूद एम्बुलेंस नहीं आई । समय पर इंदौर नहीं पहुंचने से किसान की मौत हो गई। मौत से गुस्साए परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा किया।  किसान पर बैंक एवं साहूकारों का कर्ज था जिससे वह परेशान था

 परिजनों के अनुसार किसान पूरणलान पर बैंक का 1 लाख 35 हजार और निजी साहूकारों का करीब डेढ़ लाख रुपए का कर्ज था। संभवतः इसके चलते ही उन्होंने आत्महत्या कर ली। ससुर के पास 8 बीघा जमीन थी किंतु वह बंजर है। इसलिए मजदूरी भी करते थे।