Breaking News
अखिलेश बनाएंगे नई टीम, चुनाव से पहले सपा में शामिल हो सकते हैं कई दिग्गज नेता | शिवराज को रास नहीं आई राहुल-मोदी की 'झप्पी' | राहुल ने संसद में आंख मारी तो सोशल मीडिया पर आ गया 'भूकंप' | ICAI Results 2018: CA-CPT का रिजल्ट घोषित, एमपी के पलाश ने मारी बाजी | उद्योगपति के घर 8 लाख की चोरी, पीछे का ग्रिल तोड़कर घुसे बदमाश | तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में भोपाल होगा राजनीति का केंद्र, शाह यही डालेंगे डेरा | एक बार फिर बुआ-भतीजा आमने-सामने | PHE के रिटायर्ड अधिकारी से ठगी, ATM बदलकर निकाले डेढ़ लाख रूपये | GOOD NEWS : अब रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी के कर्मचारी भी होंगें 62 में रिटायर | CM ने एक क्लिक में प्रदेश के 46 हजार छात्रों के बैंक खातों में ट्रांसफर किए 113 करोड़ रुपए |

MP : भावांतर में 8 करोड़ का फर्जीवाडा, पहली बार दर्ज हुई 40 लोगों पर FIR

शुजालपुर।

मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना मे बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है।यह फर्जीवाड़ा देश-विदेश में प्याज व लहसुन की आवक के लिए मशहूर और तहसील शुजालपुर की मंडी में किया गया है। बताया जा रहा है कि दो लाख की लहसुन की कट्टी की फर्जी खरीदी दिखाकर लगभग आठ करोड़ का फर्जीवाड़ा किया जा रहा था, लेकिन समय रहते इस खेल का पर्दाफाश हो गया । इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने दस मंडी कर्मचारियों और तीस व्यापरियों सहित कुल 40 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।गनिमत रही कि भावांतर के लिए दस्तावेज ऑनलाइन अपडेट होने के पहले ही मामला पकड़ में आ गया। बता दे कि यह मुख्यमंत्री भावंतर भुगतान योजना घोटाले में प्रदेश की पहली एफआईआर है। 

बताया जा रहा है कि मामले के खुलासे के बाद प्राथमिक जांच में भूमिका मिलने पर कृषि उपज मंडी के 4 जिम्मेदार कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया था। ठेका पद्धति पर काम करने वाले 6 अस्थायी सुरक्षाकर्मियों को भी कार्य से विरक्त करने की कार्रवाई की गई थी। घपलेबाजी में प्रमुख संलिप्तता सामने आने पर 30 व्यापारिक फर्मों पर घोष विक्रय में भाग लेने पर प्रतिबंध लगा दिया था। 

दरअसल, ये पूरा खेल मंडी कर्मचारियों औऱ व्यापारियों द्वारा खेला गया है। किसानों को २०० से २५० की रिश्वत देकर भावान्तर से लाभ कमाने की कोशिश की जा रही थी।इस बात का खुलासा तब हुआ जब सब्जी मंडी प्रांगण में 12 अप्रैल से 31 मई के बीच लहसुन-प्याज की खरीदी भावंतर योजना के तहत की जा रही थी। तभी मिली भगत कर करीब 2 लाख कट्टी लहसुन की फर्जी खरीदी-बिक्री दिखाई गई। इतना ही नही योजना में लहसुन किसी भी भाव बिकने पर किसानों को उनके खाते में सरकार से 8 रुपये प्रति किलो यानी 800 प्रति क्विंटल की राशि का प्रोत्साहन दिया जाना तय था। इसी का भी फायदा उठाने की कोशिश की गई। अधिकारियों को बात पता चलते ही पुलिस ने जांच की तो फर्जी वाडा पाया गया ।जांच में ये भी सामने आया है कि जिस किसान की अनुबंध पर्ची व भुगतान पर्ची जारी की गई। उनका मंडी प्रांगण में प्रवेश का रजिस्टर में उल्लेख ही नहीं है। फिलहाल पुलिस ने  दोषी व्यापारियों और कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है।इस लोगों के खिलाफ अब  विभागीय जांच जारी है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...