Breaking News
चुनाव से पहले शिवराज पुत्र राजनीति में सक्रिय, कांग्रेस नेताओं को बताया राजनैतिक मेंढक | मानसून सत्र छोटा रख सदन में चर्चा से बचना चाह रही शिवराज सरकार : कमलनाथ | नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र! | VIDEO : अविश्वास की आरोप कथा, अर्जुन सिंह को दी गयी नशीली दवाएं ? | फर्जी पासपोर्ट मामला : एयरपोर्ट से पकड़ाया नाइजीरियन नागरिक दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई सजा | बिजली कर्मचारियों की चेतावनी -10 दिन में नियमित करो, नही तो करेंगें प्रदेशभर में काम बंद | कलेक्टर को देख भागे रेत माफिया..! | MP : 11 हजार करोड़ का अनूपूरक बजट विधानसभा में पेश, मंगलवार को होगी चर्चा | दीपिका कुमारी ने रचा इतिहास, 6 साल बाद भारत को दिलाया वर्ल्ड कप में गोल्ड | पहल बनी मिसाल : ये स्कूल हुआ तम्बाकू मुक्त, बच्चे करते हैं निगरानी |

केन्द्रीय मंत्री ने पेश की सादगी की मिसाल, कन्यादान योजना के तहत कराई पोते की शादी, टैक्टर मे निकाली बारात

श्योपुर।

जब भी किसी नेता-अभिनेता के बेटे-बेटी की शादी होती है तो लाखों-करोड़ों रुपये खर्च किए जाते है, कई वीआईपी के लिए वीवीआईपी इंतजाम किए जाते है , लेकिन इन सब के बीच केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत  ने अपने पोते की शादी सादगी से कर एक नई मिसाल पेश की है। मंत्री ने अपने पोते की शादी नागदा में आयोजित मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह सम्मेलन में की है। खास बात तो ये रही कि इस मौके पर मंत्री जी अपने आप को रोक नही पाए और जमकर झूमे।

दरअसल, देशभर में अक्षय तृतीया के मौके पर लाखों जोड़ो ने अग्नि को साक्षी मानकर अपने नए जीवन की शुरुआत की। वही मध्यप्रदेश में भी मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह सम्मेलन में कई जोड़ों की शादियां कराई गई। नागदा में हुए सम्मेलन में शामिल होने वाले जोड़ों में  केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत के बड़ा पोता भी था।पोते मनीष का विवाह रेखा से हुआ। मुख्य मार्ग से निकले 110 जोड़ों के बनोले में अन्य जोड़ों के साथ मनीष भी दुल्हन रेखा के साथ ट्रैक्टर में परिजन के साथ सवार थे। वर निकासी के दौरान गेहलोत ने भी जमकर डांस किया।

वही सम्मेलन में अपने पोते की शादी कर गेहलोत ने ना सिर्फ विवाह समारोह में फिजूलखर्ची पर रोक लगाने का बड़ा उदाहरण पेश किया बल्कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना को भी सफल और सही बताया। खासबात तो ये है कि गेहलोत के छोटे पोते देवेंद्र का विवाह भी 29 अप्रैल को ताल में आयोजित मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में ही होगा।बता दे कि मप्र में पहला ऐसा मामला है जब कोई केन्द्रीय मंत्री अपने पोते की शादी सादगी से मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत करा रहे है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...