कांग्रेस में फिर सामने आई अंदरूनी कलह, नेताओं ने फाड़े एक-दूसरे के बैनर-पोस्टर

टीकमगढ़

चुनाव नजदीक है बावजूद इसके कांग्रेस में गुटबाजी खत्म होने का नाम नही ले रही है। आए दिन कार्यकर्ताओं की अंदरुनी कलह मीडिया के सामने निकलकर आ रही है। एक बार फिर ऐसा ही मामला टीकमगढ़ से सामने आया है। यहां सभा से पहले कार्यकर्ताओं द्वारा नेताओं के बैनर-पोस्टर फाड़े गए। आरोप है कि ये काम पूर्व मंत्री यादवेंद्र सिंह और उनके समर्थकों द्वारा किया गया है।हालांकि खुलकर कोई बोल नही रहा है। वही मामले को लेकर कांग्रेस नेताओं ने चुप्पी साध ली है।

बता दे कि यादवेंद्र सिंह वही है जिनका पिछले दिनों मतदाता सूची से नाम गायब हो गया था, जिसको लेकर खूब हंगामा भी हुआ था।

दरअसल, शुक्रवार को टीकमगढ़ में प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ की सभा होनी है। इसके लिए स्वागत के तौर पर शहर के नजरबाग मैदान के मुख्य द्वार के पास और अंदर की पोस्टर लगाए गए थे, साथ ही पूर्व मंत्री अखंड प्रताप यादव के भी बैनर लगाए थे।वे भी इस सभा में शामिल होने वाले थे। लेकिन सभा से पहले कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा इन बैनरों और पोस्टरों को फाड़ दिया गया और अखंड प्रताप की जगह पूर्व मंत्री यादवेन्द्र सिंह के बैनर लगा दिए गए। इसलिए इन्हें फाड़ने का आरोप कांग्रेस के ही पूर्व मंत्री यादवेंद्र सिंह व उनके समर्थकों पर लगाया जा रहा है। घटना के बाद हड़कंप मचा हुआ है। इस पूरे मामले की शिकायत पूर्व मंत्री ने पुलिस से की है जिसके बाद पुलिस टीम भी शरारती तत्वों की जांच-पड़ताल में जुट गई है।वही मामले को हाईकमान के सामने रखने की भी बात कही जा रही है।

 बता दे कि कांग्रेस के नेता भले ही एकजुटता और गुटबाजी समाप्त करने के लाख दम भरे, लेकिन ऐसी घटनाएं समय समय पर पार्टी के दावों की पोल-खोल रही है। ऐसे में कांग्रेस में अंधरूनी कलह के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं में अपने बैनर-पोस्टर्स लगाने की होड़ मची हुई है। घटना के बाद से ही एक बार फिर कार्यकर्ताओं में आपसी तकरार शुरू हो गई है।

 


"To get the latest news update download tha app"