Breaking News
MP: वाजपेयी के निधन पर 7 दिन का राजकीय शोक, कल बंद रहेंगे सभी स्कूल-कॉलेज और सरकारी दफ्तर | पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, देश भर में शोक की लहर | सपना चौधरी का नया वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल, भावुक हुए फैंस, पहली बार दिखा ऐसा अंदाज | सरकारी नौकरी : 10वीं-12वीं पास के लिए यहां निकली वैकेंसी, जल्द करे अप्लाई | अब जयवर्धन के लिए चुनावों में नहीं करूंगा प्रचार - दिग्विजय सिंह | अटल बिहारी वाजपेयी के यह 5 शानदार भाषण जो यादगार बन गए, देखिये वीडियो | MP : अटल जी की सलामती के लिए कांग्रेस नेता ने दरगाह पर चढ़ाई चादर, मांगी दुआ | MP को लेकर BJP का विजन, दूध का धंधा करो, पकौड़े तलो, पान की दुकान खोलो : सिंधिया | कलेक्टर की अनूठी पहल, महिला सफाईकर्मी के हाथों करवाया ध्वजारोहण | रेस्क्यू में मदद करने वाले होंगे सम्मानित, मिलेंगे 5 लाख, CM बोले-यह हैं सच्चे हीरो..दिग्विजय पर बरसे |

क्यों भड़के दिग्विजय, कार्यकर्ता को पकड़ने पड़े कान...वीडियो वायरल

टीकमगढ़

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह को एकता यात्रा के दौरान उस वक्त गुस्सा आ गया जब एक बुजुर्ग कार्यकर्ता ने दिग्गी राजा जिंदाबाद-जिंदाबाद के नारे लगाना शुरु कर दिए। फिर क्या था, दिग्विजय उस बुजुर्ग के पास आए और उन्होंने उसे नारे न लगाने की नसीहत दी । साथ ही कहा कि, ‘यदि तुमने दोबारा नारा लगाया तो मैं तुम्हें यहीं नदी में डुबो दूंगा।’ इसके बाद दिग्विजय सिंह के इस व्यवहार से घबराए बुजुर्ग ने कान पकड़ उनके पैर छूकर माफी मांगी। इस वाक्ये का किसी कार्यकर्ता ने वीडियो बना लिया जो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। कई लोग इसे बार बार देख रहे है।

दरअसल, शुक्रवार 1 जून को दिग्विजय एकता यात्रा के दौरान रामराजा के ओरछा मंदिर पहुंचे थे, जहां उनके दर्शन करने से पहले बाहर लॉन में  एक बुजुर्ग ने दिग्विजय सिंह को देखकर दिग्गी राजा जिंदाबाद का नारा लगा दिया। लेकिन इस नारे की आवाज जैसे ही उनके कानों में पहुंची दिग्विजय सिंह उस बुजुर्ग पर भड़क उठे।उन्होंने उसे नारे न लगाने की नसीहत दी और कहा कि, ‘यदि तुमने दोबारा नारा लगाया तो मैं तुम्हें यहीं नदी में डुबो दूंगा।’ दिग्विजय सिंह के इस व्यवहार से घबराए बुजुर्ग ने कान पकड़ उनके पैर छूकर माफी मांगी।हालांकि बुजुर्ग ने इस घटनाक्रम पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। इसके साथ ही अन्य लोगों को भी नारे लगाने पर दिग्विजय सिंह के गुस्से का सामना करना पड़ा।  इस यात्रा में उनके साथ उनकी पत्नी अमृता और पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी भी मौजूद रहे। 

वीडियो वायरल होने पर दी सफाई

हालांकि दूसरे दिन देऱ शाम छतरपुर पहुंचे दिग्विजय ने वीडियो के वायरल होते ही सफाई दी है। उन्होंने कहा है कि  मैंने किसी को नदी में फेंकने के लिए नहीं कहा था। वह रामराजा मंदिर में नारे लगा रहा था और मैंने कहा था कि रामराजा मंदिर में किसी भी प्रकार के नारे नहीं लगाए जाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि समन्वय समिति का भी यही निर्णय है किसी व्यक्ति विशेष के नारे नहीं लगाना है ,वह नारे लगा रहा था तो मैंने उससे माफी मांगने के लिए कहा था।।

गौरतलब है कि इस बार दिग्विजय सिंह को कांग्रेस चुनाव समन्वय समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। इसी के चलते वे प्रदेश भर में यात्रा कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह ने ओरछा स्थित राम राज मंदिर से 31 मई को अपनी एकता यात्रा की शुरुआत की है। इस एकता यात्रा के जरिए दिग्विजय सिंह कांग्रेस के पुराने नेताओं को पार्टी में सक्रिय करने और रूठे हुए नेताओं को मनाएंगे।हालांकि उनके यात्रा को लेकर कई राजनैतिक कयास लगाए जा रहे है, इसे आगामी चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...