Breaking News
अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग |

MP : लड़कियों के लिए रोल मॉडल बनीं यह फीमेल बाउंसर...बेखौफ होकर जीती हैं जिंदगी

जबलपुर| एक ओर जहां पूरे देश में महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानून बन रहे हैं, महिलाओं को पीड़ित बताया जा रहा है, वही जबलपुर में कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो खुद की सुरक्षा के साथ समाज को सुरक्षित करने का बीड़ा उठा रही हैं। जी हां हम बात कर हैं उन महिलाओं की जिन्हें फीमेल बाउंसर्स कहा जाता है। मार्शल आर्ट्स और वुशु जैसी युद्ध कलाओं में पारंगत इन लड़कियों ने वीआईपी और सेलेब्रिटीज़ की सुरक्षा का जिम्मा लिया है। जिनसे आज हम आपको परिचित करवा रहे हैं। 

आर्थिक परेशानियों से जूझते हुए पहले तो इन लड़कियों ने आत्मरक्षा के लिए ट्रेनिंग ली, फिर इस हुनर को ही अपना रोज़गार बना लिया। ये पाँचों जहां भी जाती हैं मनचले वहां से रफू चक्कर हो जाते हैं।  इन्हें ट्रेनिंग देने वाले कोच मनोज गुप्ता का मानना है कि लड़कियां अगर खुद के साथ समाज की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठाएंगी तो सुरक्षा की गारंटी बढ़ जायेगी। हाल ही में नए साल पर हुए आयोजनों में भी दीपाली विश्वकर्मा, स्वामी झारिया, श्रद्धा यादव, रौशनी चौधरी और शशि पटेल ने वीआईपी लोगों को सुरक्षा दी थी। इनके साहस से एक बात साफ़ है कि आज की नारी कमजोर नहीं है, और इसीलिए उन्हें शक्ति का रूप कहा जाता है, सिर्फ जरुरत है अपने अंदर छुपी शक्तियों को पहचानने की और वक्त आने पर इस्तेमाल करने की  

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...