अब पर्यटकों से बोलेगी MP की पुलिस " Hello Sir.. May I Help You"

ग्वालियर। अतुल सक्सेना | ग्वालियर सहित मध्यप्रदेश में आने वाले बाहरी और घरेलू पर्यटकों से बात करने और उन्हें मदद करने के लिए सरकार पर्यटक पुलिस तैयार कर रही है। प्रदेश पुलिस में कार्य कर रहे कर्मचारियों-अधिकारियों में से से ही पर्यटक पुलिस तैयार की जाएगी और इसकी जिम्मेदारी भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंध संस्थान को सौंपी गई है। 

भारतीय संस्कृति में अतिथि को देवता माना जाता है इसलिए "अतिथि देवो भवः"की परंपरा यहाँ निभाई जाती है । लेकिन देखा ये जाता है कि मध्यप्रदेश आने वाले विदेशी पर्यटक कई बार हादसे के शिकार हो जाते है। उनके साथ दुर्व्यवहार से लेकर दुष्कर्म तक हो जाता है। उसके पीछे। सबसे बड़ी वजह हैं उनकी सुरक्षा और भाषा। इसलिए अब मध्यप्रदेश सरकार पर्यटक पुलिस तैयार कर रही है जो ना केवल पर्यटकों को सुरक्षा करेगी बल्कि उनकी सुविधाओं का भी ध्यान रखेगी। पर्यटक पुलिस तैयार कर्ण की जिम्मेदारी ग्वालियर स्थित भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंध संस्थान के पास है। यहाँ प्रदेश के चिन्हित पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को ट्रेनिंग दी जाएगी।  IITTM के पीआरओ एवं पर्यटक पुलिस प्रोग्राम के  कोर्डिनेटर डॉ चंद्रशेखर बरुआ ने बताया कि ट्रेनिंग के लिए दो बैच बनाये गए हैं। पहले बैच की ट्रेनिंग  24 सितम्बर से शुरू हुई जिसका आज 30।सितम्बर को समापन हो गया। इसमें मंडला, छतरपुर,खजुराहो सहित एनी शहरों से आये पुलिसकर्मी शामिल हुए। इनमें सिपाही से लेकर सब इन्स्पेक्टर तक के प्रतिभागी शामिल हुए। श्री बरुआ के मुताबिक बैच की ट्रेनिंग अक्टूबर में होगी। 


ट्रेनिंग में सिखाया जा रहा बातचीत का तरीका

श्री बरुआ के मुताबिक इस ट्रेनिंग में पर्यटक पुलिस को पर्यटकों से बात करने का तरीका सिखाया जाएगा । दूसरे देशों से आने वाले पर्यटकों की मदद के लिए हमारी पुलिस को अंग्रेजी सिखाई जा रही है। उसे सिखाया जा रहा है कि वो किसी भी विदेशी या देशी पर्यटक के पास पहुंचकर कहें हेलो सर मैं आपकी क्या मदद कर सकता हूँ। पर्यटक पुलिस को प्रदेश के टूरिजम और संस्कृति। से भी परिचित कराया जा रहा है जिससे वे जरुरत पड़ने पर  पर्यटक की मदद कर सकें।

"To get the latest news update download the app"