Breaking News
अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग |

सिंधिया को सुर्खियों में बने रहने की झटपटाहट, इसलिये लगाते भाजपा पर आरोप : पवैया

उज्जैन

पहले दीक्षान्त समारोह में विदेशी गाऊन पहनकर विद्यार्थी उपाधि ग्रहण करते थे। ऐसा लगता था जैसे जादूगरों का जमावड़ा हो गया है, किन्तु आज विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा नई परम्परा की शुरूआत करते हुए मारवाड़ी पगड़ी एवं देशी परिधान में उपाधियां वितरित की गईं एवं छात्रों द्वारा स्वदेशी पोशाक पहनकर उपाधि ग्रहण की गई। यह अत्यधिक हर्ष का विषय है।यह बात उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने विक्रम विश्वविद्यालय के स्वर्ण जयन्ती हॉल में 23वां दीक्षान्त समारोह के दौरान कही। इतना ही नही इस मौके पर उन्होंने ग्वालियर में डॉक्ट्रेट की उपाधि लेने वालों पर सवाल खड़े किए और कहा कि वहां डॉक्टर की उपाधि वाले दूसरे से लिखवा लेते हैं।वही पवैया ने सिंधिया पर भी जमकर हमला बोला।हालांकि यह पहला मौका नही है जब पवैया ने सिंधिया पर हमला बोला है। पहले भी कई बार पवैया सिंधिया पर आरोप लगा चुके है , हमला बोल चुके है। 

उन्होंने कहा कि उज्जैन का नाम लेते ही मन में गुरू सान्दीपनि की शिक्षास्थली का ध्यान आता है। दीक्षान्त समारोह में उपाधि प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों से उन्होंने कहा कि देश ने आपको अब तक दिया ही दिया है, अब उपाधि ग्रहण करने के बाद जीवन का दूसरा काल शुरू होता है। अब आपको देश को देना ही देना है। जो शिक्षा छात्रों द्वारा ग्रहण की गई है, उसमें वृद्धि कर समाज को देने पर ही इसकी सार्थकता सिद्ध होगी।

कांग्रेस पर साधा निशाना

इस मौके पर उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कांग्रेस नेताओं पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को गाली देने के लिये कांग्रेसी नेताओं में प्रतिपस्पर्धा चल रही है, कौन मुख्यमंत्री को ज्यादा गाली दे सकता है, कौन उन पर ज्यादा अनर्गल आरोप लगा सकता है। वही सिंधिया द्वारा भाजपा पर लगाये गये आरोपो पर जयभान सिंह पवैया ने जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि सिंधिया को सुर्खियों में बने रहने की झटपटाहट बनी रहती है, इसलिये वे भाजपा पर आरोप लगाते रहते है। पवैया ने कहा कि सिंधिया 2003 से पहले कांग्रेस के शासनकाल को ध्यान में रखकर भाजपा पर आरोप लगाये तो अच्छा रहेगा। क्योंकि सबको पता है कि प्रदेश में कांग्रेस ने कितना काम किया था।  वहीं पवैया ने मंदसौर की घटना को निंदनीय बताते हुये आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने की बात कही है।

अलग अंदाज में हुआ स्वागत

इस मौके पर दीक्षान्त समारोह में विभिन्न विद्यार्थियों को उपाधियां वितरित की गईं तथा 2014 से 2017 तक के विभिन्न संकायों में मैरिट में प्रथम स्थान पर आये 48 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक वितरित किये गये।  राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल ने कार्यक्रम के पूर्व विश्वविद्यालय परिसर में महाराजा विक्रमादित्य की प्रतिमा का पूजन-अर्चन किया। इसके पश्चात वे अन्य अतिथियों एवं विश्वविद्यालय के कुलपति, प्राध्यापकों के साथ पारम्परिक रूप से शोभायात्रा में शामिल हुईं तथा कार्यक्रम स्थल पर पहुंची। कार्यक्रम में राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल एवं अन्य अतिथियों का अनूठी विधि से स्वागत किया गया, जिसमें उन्हें फूलमाला के स्थान पर तुलसी का पौधा एवं फलों की टोकनी भेंट की गई। उल्लेखनीय है कि राज्यपाल फलों को बच्चों में बांट देती हैं।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...