Breaking News
व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित |

दलित दूल्हे को घोड़ी से उतारा, मारपीट व पथराव, 4 गिरफ्तार

उज्जैन|  देश में दलितों के साथ उत्पीड़न के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। आये दिन ग्रामीण क्षेत्रों में दबंगों द्वारा शादी समारोह, बारात जैसे आयोजनों पर रोक लगाने की घटनाएं सामने आती रहती है| एक ऐसा ही मामला उज्जैन में सामने आया है जहां  माहिदपुर के नाग गुराड़िया में दूल्हे को घोड़ी से उतर दिया गया और बारात पर पथराव और मारपीट भी कर दी| मामले में जब पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो पीड़ित परिवार ने एसडीएम को ज्ञापन सौपंकर कार्रवाई की मांग की. इसके बाद पुलिस ने चार लोगो पर मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया है| 

जानकारी के मुताबिक रविवार रात को नाग गुराड़िया में संजय चौहान जो बलाई समुदाय से ताल्लुक रखते हैं वो घोड़ी पर सवार होकर निकले थे लेकिन गांव के कुछ सवर्णों को यह पंसद नहीं आया और जबरन घोड़ी से उतार दिया गया। इतना ही नहीं वर पक्ष का आरोप है कि घोड़े पर बारात निकालने से नाराज होकर कुछ लोगों ने उन पर पत्थरबाजी की और मारपीट भी की, बारात के आगे ट्रैक्टर खड़ा कर दिया और जातिसूचक शब्द कहते हुए दूल्हे संजय को घोड़ी से उतार दिया| काफी समझाने के बाद उन्होंने कहा यहां से पैदल ही जाना होगा| हमारे सामने घोड़ी पर नहीं बैठ सकते|  ज्ञापन देने पहुंचे अनुसूचित वर्ग के लोगों का कहना था कि घटना के बाद डायल-100 सहित झारड़ा पुलिस को सूचना की गई थी। पुलिस दो घंटे बाद रात 12 बजे गांव पहुंची|  इसके बाद पुलिस की मौजूदगी में दूल्हे को घोड़ी पर बैठाकर बरात निकाली गई|  पीड़ित पक्ष का यह भी आरोप है कि डायल 100 को फोन करने के दो घंटे बाद पुलिस पहुंची| फिर भी हमारी सुनवाई न करते हुए दबाव बनाया गया| इसके बाद हम सभी थाने पर भी गए तो वहां भी सुनवाई नहीं हुई| फिर महिदपुर एसडीएम जगदीश गोमे से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा| एसडीएम गोमे ने मामले में जांच कर दोषी पाए जाने पर अधिकारियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया| इसके बाद पुलिस ने चार लोगो पर मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया है| 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...