Breaking News
व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित |

बेटी बचाओ अभियान की हकीकत, CM की कर्मभूमि विदिशा में ही घटी बेटियों की संख्या

विदिशा

सरकार भले ही बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जैसे तमाम अभियान चलाकर बेटी बचाने का संदेश दे रही हो लेकिन जमीनी सच्चाई तो कुछ और ही बयां करती नजर आ रही है।ताजा आकंड़ा मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में देखने को मिला है। जहां लड़कों की तुलना में लड़कियां की संख्या में कमी आई है। चौंकने वाली बात तो ये है कि ये जिला मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कर्मभूमि रहा है। अब सोचने वाली बात है कि जब मुख्यमंत्री के कर्मभूमि रहे जिले का ये हाल है तो बाकी जिलों का क्या होगा।जहां विदिशा जिले के बाद कम लिंगानुपात के मामले में होशंगाबाद, शिवपुरी, शहडोल और मुरैना का नंबर आता है।वही सबसे ज्यादा लिंगानुपात वाले जिलों में सीहोर के बाद बालाघाट, सिवनी, इंदौर और शाजापुर हैं।  

दअसलल, भारत सरकार के नीति आयोग की रिपोर्ट कहती है कि विदिशा जिले में लड़कियां की संख्या में कमी आई है और लड़को की संख्या में इजाफा हुआ है। 2017 में विदिशा में 1000 लड़कों के मुकाबले 782 लड़कियों का जन्म लिया है।प्रदेश के औसत प्रति हजार लड़कों पर 918 लड़कियों के मुकाबले 136कम है।वही सीएम के गृह जिले की बात करे तो यहां1000 लड़कों पर 992 लड़कियों का जन्म हुआ है।

इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग से जारी हेल्थ बुलेटिन में 2017 दिसंबर तक विदिशा में करीब 20 हजार प्रसव कराए गए है, जिनमें 11 हजार 274 लड़के और 8 हजार 800 लड़किया पैदा हुई है।प्रदेश के हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक सबसे ज्यादा लिंगानुपात सीहोर जिले में दर्ज हुआ है। 

लगातार देश-प्रदेश में घटते लिंगानुपात का कारण रुढ़िवादी मानसिकता, बाजारों में बिकने वाली गोलियां और ग्लैमर की दुनिया में आगे बढ़ने की होड़ है। भले ही लोग शिक्षित हो चुके है , लेकिन आज भी बेटियों को लेकर उनकी मानसिकता में कोई बदलाव नही आया है। जिसके कारण लोग कोख मे ही बेटी को मारने का बाप कर बैठते है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...