यह है विश्व की अजीबोगरीब चोरियां, चोरों के कारनामे ऐसे जो हैरान कर दे

अजब-गजब: दुनिया में अजीब लोगों की कमी नहीं। अब ज़रा रूस का ही मामला देखिये, यहां एक व्यक्ति ने 5 किलोमीटर लंबे हाईवे को ही चुरा लिया। और ये व्यक्ति खुद एक जेल अधिकारी है। पुलिस के अनुसार इस जेल अधिकारी को करीब एक साल तक सुदूर उत्तर कोमी के इलाके में सड़क तोड़ते हुए देखा गया। बताया गया  कि इस सड़क के 7,000 मज़बूत कॉन्क्रीट के टुकड़ों को गाड़ियों में लाद कर ले जाया गया और निजी फ़ायदे के लिए बेच दिया गया। ये कोई अकेला मामला नहीं, दुनिया में ऐसी कई अजीबोगरीब चोरियां हुई हैं। आईये आपको बताते हैं कुछ ऐसे ही मामलों के बारे में। रूस में ही 29 दिसंबर 2007 को खैबरोस्क प्रांत में 200 टन का स्टील का एक पुल रातोंरात ग़ायब हो गया। 11.5 मीटर लंबा यह पुल बिजली के तारों के ऊपर से कारों की आवाजाही के लिए बनाया था और इसमें 50 सेंटीमीटर के चार पाइपों के ऊपर स्टील की पट्टियां लगाई गई थी। माना जाता है कि चोरी करने वालों ने रातों रात पुल को टुकड़ों में काट दिया और इसे पुराने मेटल यानी स्क्रैप मैटल के रूप में बेच दिया गया।


अंत:वस्त्रों की चोरी  

अब बात ब्रिटेन की, मार्च 1966 में ब्रिटेन विश्व कप फुटबॉल खेलों के आयोजन में लगा हुआ था और इसमें पुरस्कार में दिए जाने वाले कप को लंदन के एक्ज़ीबिशन हॉल में रखा गया था। लेकिन कड़ी सुरक्षा के बाद भी  30,000 पाउंड का ठोस धातु से बना यह ज़ुल्स रिमे कप चोरी हो गया। लॉस एंजेलिस में 1992 में दंगे भड़क गए। इस दौरान जब लोग महंगे सामान चुरा रहे थे, वहीं कुछ लोग महिलाओं के अंत:वस्त्रों की चोरी कर रहे थे। ये चोर 'फ्रेडरिक ऑफ़ हॉलीवुड' दुकान में घुसे और दुकान के अंत:वस्त्र म्यूज़ियम से कई सामान चुरा कर भाग निकले, जिसकी कीमत लगभग 20,000 डॉलर थी।


जानवरों को भी नहीं छोड़ा 

ऑस्ट्रेलिया में तो चोरों ने पार्क में जानवरों को भी नहीं छोड़ा, यहां क्वींसलेंड में पुलिस ने तीन लोगों को एक थीम पार्क सेफेयरी पेन्गुइन डर्क की चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया। जानवरों की चोरी के और भी मामले हैं, फरवरी 1983 में आयरलैंड में बैलीमनी स्टड फ़ार्म में घुस कर चोरों ने विश्व में घुड़दौड़ के सबसे नामी और महंगे घोड़े शर्ग़ार को अगवा कर लिया। शर्ग़ार ने कई बड़ी प्रतियोगिताएं जीती थीं और घोडियों के गर्भाधान कराने के लिए उसकी फ़ीस 1 करोड़ पाउंड थी। इस घोड़े को काफी तलाश के बाद भी ढूंढा नहीं जा सका।