इन देशों में 'नमस्ते' का स्टाइल जानकर हैरान हो जाएंगे आप

जानना जरूरी है: हम जब भी किसी से मिलते हैं तो सबसे पहले अभिवादन करते हैं। ये एक दूसरे के प्रति सम्मान जताने का तरीका होता है। आजकल सामान्य तौर पर हैलो कहकर हाथ मिलाना अभिवादन का सबसे प्रचलित तरीका है। इसके अलावा भारतीय परंपरानुसार किसी से मिलने पर प्रणाम करना, चरणस्पर्श करना या हाथ जोड़कर नमस्कार अथवा नमस्ते कहने की प्रथा है। नमस्कार का प्रयोग सबसे अधिक किया जाता है। ‘नमस्कार’ एक संस्कृत शब्द है जो संस्कृत के ‘नमः’ शब्द से लिया गया है,जिसका अर्थ है प्रणाम करना I मान्यता है कि प्रत्येक व्यक्ति के अंदर परमात्मा (ईश्वरीय तत्व) होता है जिसे हम आत्मा कहते हैं । नमस्कार अथवा नमस्ते करते समय एक व्यक्ति की आत्मा दूसरे व्यक्ति की आत्मा का अभिनन्दन और नमस्कार करती है।

ये तो हुआ भारतीय समाज में अभिवादन करने का तरीका...इसी प्रकार दुनियाभर में अलग अलग स्थानों पर एक दूसरे से मिलते हुए अभिवादन करने के अलग अलग तरीके हैं। आईये आपको कुछ ऐसे ही दिलचस्प अभिवादन के तरीकों के बारे में जानकारी देते है-


न्यूज़ीलैंड - यहां आपस में मिलने के पारंपारिक तरीके को 'होन्गी' कहते हैं। इसके अनुसार दो लोग आपस में मिलते समय अपनी नाक से दूसरे की नाक रगड़ते हैं। माना जाता है कि यह लंबी सांसों की कामना का प्रतीक है।

 

तुवालु – यहां की अभिवादन की परंपरा के बारे में सुनकर आपको अजीब लग सकता है, लेकिन ये सच है कि तुवालु के लोग एक दुसरे के साथ चेहरा चिपका कर एक दूसरे को सूंघते हैं। इस प्रथा को यहां सोगी कहते हैं।