दिग्विजय का दावा-भोपाल लोकसभा क्षेत्र में 80 हजार फर्जी मतदाता, बीएलओ पर हो सीधे कार्रवाई

भोपाल।

विधानसभा के बाद लोकसभा चुनाव मे फिर फर्जी मतदाताओं का मुद्दा गरमाने लगा है। अब भोपाल से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय ने दावा किया है कि भोपाल में 80  हजार फर्जी मतदाता है।इसको लेकर उन्होंने चुनाव आयोग मे भी शिकायत की है।उन्होंने अपनी शिकायत में गोविंदपुरा, नरेला व बैरसिया में सबसे ज्यादा फर्जीवाड़ा मतदाता होने की संभावना जताई है।वही इस मामले में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी का कहना है कि शिकायत मिली है। इस मामले की जांच की जाएगी। जांच में अगर शिकायत सही मिलती है तो कार्रवाई होगी।

   दरअसल, शनिवार को नामांकन भरने के बाद भोपाल से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ने फर्जी वोटर लिस्ट को लेकर एमपी के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से फर्जी वोटर्स लिस्ट की शिकायत की है। दिग्विजय ने शिकायत में दावा किया कि नरेला, गोविंदपुरा, बैरसिया में एक ही घर में 20 से ज्याद वोटर मिले हैं जो कि फर्जी है। उन्होंने भोपाल संसदीय क्षेत्र से भी फर्जी वोटर होने का खुलासा किया जिसमें भोपाल में करीब 33 हजार फर्जी वोटर की शिकायत की। वही उन्होंने संभावना जताई है कि भोपाल में 80  हजार फर्जी मतदाता हो सकते है। करीब 46 हजार से ज्यादा इस तरह के विधानसभा क्षेत्र में फर्जी वोटर्स हैं। दिग्विजय ने जांच की मांग की है।

उन्होंने मीडिया से कहा कि विधानसभा चुनावों के पहले कांग्रेस की सतर्कता के कारण प्रदेश से 36 लाख फर्जी वोटरों के नाम काटे गए। इन मतदाताओं के नाम भी तत्कालीन भाजपा सरकार ने जुड़वाए थे। यह जुर्म होने के बावजूद भी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई। दिग्विजय सिंह ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से मांग की है कि यदि आयोग को सौंपी गई सूची में डुप्लीकेट मतदाता के नाम पाए गए तो पोलिंग बूथ आफीसर के खिलाफ कार्रवाई कर आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाए। साथ ही ऐसे डुप्लीकेट मतदाता जो घरों में मौजूद नहीं हैं, उनके परिवार वालों को मतदाता पर्ची न दी जाए। इसकी पर्ची देने की जिम्मेदारी भी बूथ के प्रोसिडिंग ऑफिसर को दी जाए।

बता दे कि पिछले साल विधानसभा चुनाव से पहले भी फर्जी वोटर को लेकर मध्य प्रदेश में जमकर सियासत हुई थी, शिकायत भोपाल से लेकर दिल्ली आयोग तक बात पहुंची थी। खास करके विधानसभा चुनाव में भी नरेला विधानसभा में मतदाता सूची में फर्जीवाड़े को लेकर कांग्रेस ने चुनाव आयोग के पास शिकायत की थी।इसके साथ ही मध्यप्रदेश के अन्य जिलों की भी शिकायत की गई थी। इसको लेकर बीजेपी पर भी कई आरोप लगे थे।



"To get the latest news update download the app"