डेंगू पर लगाम के लिए स्वास्थय मंत्री ने सभाला मोर्चा, घर-घर जाकर किया अनुरोध

286

भोपाल । जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने गुरुवार को कोटरा नगर की बस्तियों में घर-घर जाकर नागरिकों से डेंगू से बचाव और रोकथाम के उपाय अपनाने का अनुरोध किया। दोनो मंत्रियो ने आकाश नगर में महेश शर्मा, भज्जू श्याम और सतीश भार्गव के घर पहुँचकर परिजनों से भेंट की। घरों में रखे पानी के बर्तनों और गमलों में लार्वा का अपने सामने परीक्षण करवाया। आकाश नगर बस्ती के अधिकांश घरों में डेंगू प्रजाति के मच्छरों का लार्वा जाँच में पाया गया। मंत्रीद्वय ने डेंगू से बचाव के लिये पहली जरूरत घर में रखे पानी के बर्तनों से समय-समय के अंतराल पर पानी को बदलने की बात कही। अपने सामने गमलों, फ्लावर प्लांट और अन्य बर्तनों में रखे 2-3 दिनों के पानी को बदलवाया। उन्होंने लोगों से कहा कि चिकित्सकों के परामर्श से होम्योपेथिक प्रिवेंटिव मेडिसिन का उपयोग करें। स्थानीय नागरिक अपने घर और आसपास के क्षेत्र को साफ रखें। प्रतीकात्मक तौर पर खाली पड़े स्थान और गंदगी वाले स्थानों पर मलेरियारोधी दवा का छिडक़ाव किया। दोनेा मंत्रियो ने डेंगू को खत्म करने के संकल्प अभियान के पोस्टर पर हस्ताक्षर किये। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम के अधिकारियों को बस्तियों में रोजाना सफाई करवाने और वर्षा जल के भराव वाले स्थानों से जल को खाली करवाने के निर्देश दिये। तुलसीराम सिलावट आकाश नगर बस्ती से पैदल नया बसेरा पहुँचे और नागरिकों से मिलकर डेंगू तथा अन्य बीमारियों से बचाव और रोकथाम के उपाय अपनाने का आग्रह किया। संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव, आयुक्त नगर निगम बी विजय दत्ता, पार्षद योगेन्द्र सिंह चौहान, मोनू सक्सेना, अमित शर्मा, स्वास्थ्य, नगर निगम और जिला प्रशासन के अधिकारी साथ थे।

कैंसर मशीनों का लोकार्पण

तुलसीराम सिलावट और जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने गुरुवार को जवाहरलाल नेहरू कैंसर अस्पताल एवं अनुसंधान केन्द्र में कैंसर रोग के इलाज की दो मशीनों हेलसियान और ब्रेकीथेरेपी का लोकार्पण किया। श्री सिलावट ने भोपाल में इन मशीनों की उपलब्धता पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि जवाहरलाल नेहरू कैंसर अस्पताल में उच्च गुणवत्ता के इलाज के कारण इसकी देशभर में विशिष्ट पहचान है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि इन आधुनिक मशीनों से कैंसर रोगियों को अच्छा इलाज मिल सकेगा। अस्पताल की सीईओ श्रीमती दिव्या पाराशर ने बताया कि ज्यादातर कैंसर के इलाज में रेडियोथेरेपी उपयोगी होती है। यह इलाज की सरल विधि है लेकिन आधुनिक इलाज के रूप में कैंसर के मरीज को ब्रेकीथेरेपी उपचार दिया जाता है। इस विधि से शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं को कम नुकसान पहुँचता है। ब्रेकीथेरेपी का मुख्य रूप से मुख, आहार नली, प्रोस्टेट और गर्भाशय कैंसर के इलाज के लिये उपयोग किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here